राबड़ी देवी से की थी रश्मि ठाकरे की तुलना:मुंबई के बाद पुणे में भी भाजपा सोशल मीडिया सेल के चीफ के खिलाफ दर्ज हुआ केस, पुणे पुलिस पकड़ने के लिए मुंबई पहुंची

मुंबई20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गुरुवार को केस दर्ज करने के बाद गजारिया से साइबर सेल यूनिट की टीम ने बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स में लंबी पूछताछ की है। - Dainik Bhaskar
गुरुवार को केस दर्ज करने के बाद गजारिया से साइबर सेल यूनिट की टीम ने बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स में लंबी पूछताछ की है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मि ठाकरे की तुलना बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से करना भाजपा के सोशल मीडिया सेल के इंचार्ज को महंगा पड़ गया है। मुंबई के बाद पुणे में भी साइबर सेल ने जितेन गजरिया के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। गुरुवार को केस दर्ज करने के बाद गजारिया से साइबर सेल यूनिट की टीम ने बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स में लंबी पूछताछ की है। गजारिया के खिलाफ पुणे में भी एक केस दर्ज हुआ है। यहां से एक टीम गजारिया को पकड़ने के लिए मुंबई से रवाना हुई है। आज शाम तक उनकी गिरफ्तारी हो सकती है।

ताजा जानकारी के मुताबिक, गजारिया से तकरीबन साढ़े चार घंटे तक पूछताछ की गई है। पूछताछ के बाद बाहर निकले गजारिया ने मीडिया से कोई बात नहीं की। हालांकि, उनके वकील विवेकानंद गुप्ता ने कहा कि उनके खिलाफ कोई केस दर्ज नहीं हुआ है, पुलिस ने सिर्फ प्राथमिक जांच के लिए उन्हें बुलाया था और उनके क्लाइंट इस मामले में पूरा सहयोग कर रहे हैं। गजरिया ने एक ट्वीट में रश्मि ठाकरे को 'मराठी रबादेवी' (#MarathiRabriDevi) कहा था। इससे सोशल मीडिया में विवाद खड़ा हो गया था।

गुप्ता ने कहा, "कोई प्राथमिकी नहीं दर्ज हुई है, कोई सम्मन नहीं था, लेकिन गजरिया पुलिस के साथ सहयोग करना चाहते थे इसलिए वे यहां आये। उनका बयान दर्ज किया गया था। अगर पुलिस किसी भी दंडात्मक कार्रवाई के साथ आगे बढ़ती है, तो हम अपने अधिकारों को सुरक्षित करने के लिए कानूनी कदम भी उठाएंगे।"

मेरे क्लाइंट के मन में रश्मि ठाकरे का पूरा सम्मान
वकील गुप्ता ने ट्वीट को सही ठहराते हुए कहा कि उनके मन में रश्मि ठाकरे के लिए अत्यंत सम्मान है और यह स्वयं शिवसेना नेता थे जिन्होंने कहा था कि सरकार उनके(रश्मि ठाकरे) द्वारा चलाई जा रही है।

पुणे में भी दर्ज हुआ गजारिया के खिलाफ केस
गजारिया के ट्वीट के बाद पुणे की आईटी सेल ने उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 153A(समाज के विभिन्न वर्ग या लोगों में धर्म, जाति, जन्मस्थान और भाषा के आधार पर वैमनस्यता फैलाना), धारा 500 (मानहानि), धारा 505(अपराध करने के आशय से असत्य कथन करना) और आईटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। पुणे पुलिस की एक टीम देर रात मुंबई पहुंची और गजारिया को तलाश किया। पूरी रात खोजने के बाद भी गजारिया उनके हाथ नहीं लगे हैं। पुलिस ने पूछताछ का समन उनके भाई को दिया है।

भाजपा ने कहा-अभिव्यक्ति की आजादी छीन रहे हैं
बीजेपी नेता राम कदम ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार लोगों की अभिव्यक्ति की आजादी छीन रही है। उन्होंने कहा कि जब भाजपा सांसद हेमा मालिनी के बारे में महाराष्ट्र सरकार के एक मंत्री द्वारा अभद्र वाणी का इस्तेमाल किया जाता है तब कोई कार्रवाई नहीं होती है। वहीं, भाजपा कार्यकर्ता अपने अभिव्यक्ति के तहत यदि ट्विटर पर कुछ लिखे तो सरकार पुलिस का दुरुपयोग करते हुए उन पर कार्रवाई करती है। पुलिस द्वारा परेशान किया जा रहा है।

बीजेपी नेता ने आरोप लगाया कि वसूली तो वसूली, पर अपना राजनीतिक हिसाब चुकता करने के लिए भी महाराष्ट्र की सरकार, महाराष्ट्र पुलिस और मुंबई पुलिस का दुरुपयोग कर रही है। यह निंदनीय है।

खबरें और भी हैं...