सचिन वझे 3 अप्रैल तक कस्टडी में:NIA का दावा- सचिन वझे के घर से 62 कारतूस मिले, वझे बोला- मुझे बलि का बकरा बनाया जा रहा

मुंबई8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एंटीलिया केस में गिरफ्तार मुंबई पुलिस के API सचिन वझे को लेकर गुरुवार को NIA कोर्ट में सुनवाई हुई। जांच एजेंसी की दलीलों के बाद कोर्ट ने वझे को 3 अप्रैल तक के लिए कस्टडी में भेज दिया। इस दौरान NIA ने अदालत में कई दावे किए। केंद्रीय जांच एजेंसी ने बताया कि वझे के घर से 62 कारतूस मिले हैं जिनका कोई रिकॉर्ड नहीं है। यह साफ नहीं है कि वह कारतूस का क्या करने वाला था। वझे को सर्विस रिवाल्वर के लिए दी गई 30 गोलियों में से सिर्फ पांच बरामद हुई हैं। आरोपी ने यह नहीं बताया कि बाकी की गोलियां कहां गईं।

NIA ने कोर्ट को यह भी बताया कि वझे के एक सहयोगी के सरकारी गवाह बनने की बात सही नहीं है। किसी भी शख्स को सरकारी गवाह तब बनाया जाता है, जब उस केस में चार्जशीट हो जाती है।

अदालत में सुनवाई के दौरान सचिन वझे ने कहा कि वह राजनीति का शिकार है और उसे इस केस में बलि का बकरा बनाया जा रहा है। वझे ने कहा कि मैंने इस मामले में अपराध स्वीकार नहीं किया है। मैंने 12 दिन तक इस केस की छानबीन की और फिर कुछ बदलाव हुआ और मुझे NIA ने गिरफ्तार कर लिया। सूत्रों के मुताबिक, कोर्ट में उसने माना कि एंटीलिया केस को सॉल्व कर वह खुद को सुपरकॉप की तरह दिखाना चाहता था।

एनआईए ने शनिवार शाम मुंबई पुलिस के अधिकारी सचिन वझे से 12 घंटे तक पूछताछ करने के बाद उसे गिरफ्तार किया था। वझे के खिलाफ आईपीसी की धारा 285, 465, 473, 506(2), 120 B के तहत केस दर्ज किया गया है।

NIA ने 15 और दिनों की कस्टडी मांगी थी
सुनवाई के दौरान NIA ने 15 और दिनों के लिए सचिन वझे की कस्टडी मांगी थी। अदालत में सुनवाई के दौरान NIA ने कहा कि वझे पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहा है। NIA ने बताया कि वझे की जरूरत DNA मैच, ब्लड सैंपल और CCTV समेत कई सबूतों को जमा करने के लिए है। इसलिए वे अभी वझे की और कस्टडी चाहते हैं। सुनवाई के दौरान ASG अनिल सिंह ने कहा कि यह देश का बेहद गंभीर मामला है। इस केस में वही पुलिसकर्मी आरोपी है, जो इस केस की जांच कर रहा था।

सचिन वझे को इसी गाड़ी से अदालत ले जाया गया।
सचिन वझे को इसी गाड़ी से अदालत ले जाया गया।

UAPA लगाने पर वझे के वकील ने सवाल उठाया
सचिन वझे की ओर से पेश वरिष्ठ वकील पोंडा ने तर्क दिया कि NIA को UAPA को लागू करने वाले अपने फैसले को अदालत के सामने स्पष्ट करना चाहिए। यह केस UAPA के तहत फिट नहीं होता है। सिर्फ जिलेटिन मिलना विस्फोटक मिलना नहीं है।

NIA को सचिन वझे के घर से मिले 62 जिंदा कारतूस
अदालत में सुनवाई के दौरान NIA ने कहा कि वझे के घर में 62 जिंदा कारतूस मिले हैं। ये कारतूस घर में क्यों रखे गए थे? इसे लेकर वझे कुछ नहीं बता रहे हैं। NIA ने विशेष अदालत से कहा है कि क्योंकि वे कोई जवाब नहीं दे रहे हैं, इसलिए हमें अभी और पूछताछ करने की जरूरत है।

एंटीलिया के बाहर से विस्फोटकों से भरी स्कॉर्पियो मिली थी
25 फरवरी को हरे रंग की स्कॉर्पियो उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर लावारिस खड़ी मिली थी। बम डिस्पोजल स्क्वॉड ने उसमें से 20 जिलेटिन स्टिक्स बरामद की थीं। साथ में अंबानी के काफिले की कुछ गाड़ियों के नंबर प्लेट्स और एक चिट्टी भी मिली थी।

इस स्कॉर्पियो के मालिक मनसुख हिरेन का शव 5 मार्च को मुम्ब्रा की खाड़ी से बरामद हुआ था। इसके बाद महाराष्ट्र ATS ने इसमें हत्या का केस दर्ज किया था। वहीं, एंटीलिया केस में NIA की एंट्री हुई और उन्होंने सचिन वझे को अरेस्ट किया था। वझे 25 मार्च तक NIA कस्टडी में थे।

खबरें और भी हैं...