पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Sachin Waze Shiv Sena; Mukesh Ambani Antilia House Case Update | National Investigation Agency (NIA), Mumbai Police Latest News

एंटीलिया केस में पड़ताल:NIA को शक- पुलिस हेडक्वार्टर में रची गई स्कॉर्पियो वाली साजिश, मनसुख की मौत की जांच कर रही ATS भी वझे की कस्टडी चाहती है

मुंबई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास मिली विस्फोटक से भरी स्कार्पियो मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की जांच में कई खुलासे हुए हैं। अब तक जो भी कुछ सामने आया है उससे पता चलता है कि पूरे मामले की साजिश पुलिस मुख्यालय और असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर (API) सचिन वझे के ठाणे स्थित घर पर रची गई थी। पुलिस मुख्यालय में स्कॉर्पियो के मालिक मनसुख हिरेन का पहले से ही आना-जाना था। NIA को यहां से एक वीडियो रिकॉर्डिंग भी मिली है, जिसमें वझे और मनसुख एक ही कार में बैठकर जाते दिख रहे हैं।

इस बीच, मुंबई के कलिना स्थित फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी ने अपने शुरूआती जांच में पाया है कि उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के पास खड़ी एसयूवी से बरामद जिलेटिन की छड़ें कम तीव्रता वाले विस्फोट को ट्रिगर करने में सक्षम थीं।

वझे के साजिश का सूत्रधार होने के पुख्ता सबूत मिले
NIA सूत्रों के मुताबिक, इस बात के पुख्ता सबूत मिले हैं कि अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक से भरी स्कॉर्पियो रखने की साजिश सचिन वझे ने ही रची थी। यह गाड़ी 25 फरवरी की रात मुकेश अंबानी के घर के बाहर पार्क की गई थी। इसमें जिलेटेन की 20 रॉड पाई गई थीं। इस स्कॉर्पियो के पीछे जो इनोवा कार CCTV में कैद हुई थी वह क्राइम इन्वेस्टिगेशन यूनिट (CIU) की ही थी और उसे CIU का पुलिसकर्मी ही चला रहा था। NIA की जांच में यह साफ हो गया है कि वझे ही स्कॉर्पियो चला कर ले गए और उसे पार्क करने के बाद निकल कर इनोवा में बैठ कर फरार हुए।

सचिन वझे की यह तस्वीर तब की है जब क्राइम सीन रीक्रिएट करने के लिए उन्हें एंटीलिया के बाहर ले जाया गया था।
सचिन वझे की यह तस्वीर तब की है जब क्राइम सीन रीक्रिएट करने के लिए उन्हें एंटीलिया के बाहर ले जाया गया था।

सबूत को और पक्का करने के लिए NIA ने देर रात क्राइम सीन रीक्रिएट किया
NIA ने शुक्रवार देर रात घटना वाली जगह यानी एंटीलिया से कुछ दूरी पर क्राइम सीन को रीक्रिएट किया। NIA की टीम ने वझे को सफेद कुर्ता पहनाकर चलवाया। मामले से जुड़े CCTV फुटेज में एक व्यक्ति PPE किट पहने दिखाई दिया था। दरअसल, वह ढीला कुर्ता ही था। वझे के सिर पर साफा भी बांधा गया। इलाके में CCTV कैमरा लगाकर सड़क पर मार्किंग की गई। एक डमी स्कॉर्पियो को भी मौके पर लाया गया। इस दौरान आसपास बैरिकेडिंग की गई, ताकि मीडिया और आम लोगों को आने से रोका जा सके। इस दौरान CFSL की टीम भी मौजूद रही।

कैमरों को धोखा देने के लिए PPE किट जैसा कुर्ता-पाजामा पहना
NIA को संदेह है कि आसपास लगे CCTV कैमरों को धोखा देने के लिए वझे ने PPE किट की तरह नजर आने वाला कुर्ता और पजामा पहना था। NIA ने कुर्ला के उस दुकान का पता लगा लिया है, जहां से दो कुर्ता-पाजामा खरीदे गए थे। इसे वझे ने मुलुंड टोल नाका क्रॉस कर ठाणे में मिट्टी का तेल डालकर जला दिया था। NIA ने जब वझे की ब्लैक मर्सिडीज पकड़ी थी, तो उसमें 5 लाख रुपए, नोट गिनने की मशीन और बियर के कैन में मिट्टी का तेल मिला था।

मुंबई पुलिस कमिश्नर से मिले NIA के IG
पिछले दिनों NIA ने मुंबई पुलिस हेडक्वार्टर में स्थित CIU के दफ्तर में छापेमारी की थी और यहां से कई दस्तावेज जब्त किए थे। इस बीच जांच अगुआई कर रहे IG अनिल शुक्ला ने शुक्रवार को मुंबई पुलिस के नए कमिश्नर हेमंत नागराले से मुलाकात की। इस दौरान उनके साथ जॉइंट पुलिस कमिश्नर (क्राइम) मिलिंद भारंबे और डिप्टी पुलिस कमिश्नर एस चैतन्य भी मौजूद थे।

पुणे से CFSL की एक टीम जांच के लिए मुंबई पहुंची है। शुक्रवार के बाद यह टीम आज भी जांच जारी रखेगी।
पुणे से CFSL की एक टीम जांच के लिए मुंबई पहुंची है। शुक्रवार के बाद यह टीम आज भी जांच जारी रखेगी।

महाराष्ट्र ATS को वझे के मनसुख की हत्या में शामिल होने का शक
एंटीलिया बम केस में निलंबित और गिरफ्तार सचिन वझे की अग्रिम जमानत याचिका को लेकर महाराष्ट्र एंटी टेररिज्म स्क्वॉड (ATS) ने ठाणे सेशन कोर्ट में अपना जवाब दाखिल किया। इस दौरान ATS ने वझे के मनसुख की हत्या में शामिल होने पर संदेह जताते हुए उसकी कस्टडी की मांग की है। ATS यह जानना चाहती है कि 4 से 5 मार्च के बीच क्या हुआ था? घटनाओं का क्रम क्या था? 17 से 25 के बीच स्कोर्पियो कार कहां थी? क्या वझे के पास थी? हालांकि, अदालत ने इसपर कोई फैसला नहीं दिया है और अगली सुनवाई 30 मार्च तक के लिए टाल दी है।

वझे ने कहा जब मनसुख गायब हुए वे डोंगरी में थे
सचिन वझे ने अपनी जमानत याचिका में कहा कि उन्हें फंसाने के लिए FIR दर्ज की गई। मनसुख हिरेन जब लापता हुए और उनकी कथित रूप से हत्या कर दी गई, उस समय में दक्षिण मुंबई के डोंगरी में था। सचिन वझे ने गिरफ्तारी से एक दिन पहले ठाणे सेशन कोर्ट में 12 मार्च को अग्रिम जमानत के लिए याचिका दायर की थी, जिसमें सचिन वझे ने कहा कि, महाराष्ट्र ATS द्वारा दर्ज की गई FIR आधारहीन और उद्देश्यहीन है। FIR में किसी व्यक्ति का नाम नहीं है। हालांकि, तब अदालत ने उनकी याचिका पर फैसला नहीं दिया था और केस 19 मार्च के लिए टाल दिया था।

वकील से अकेले मुलाकात करने की मांग रद्द
NIA ने मुंबई पुलिस की अपराध खुफिया शाखा के कई अधिकारियों से भी पूछताछ की है जहां पर वझे तैनात थे और अबतक दो मर्सिडीज सहित पांच वाहन जब्त किए हैं। NIA की अदालत ने शुक्रवार को वझे के वकील के उस अनुरोध को अस्वीकार कर दिया जिसमें उन्हें अपने क्लाइंट से एजेंसी की हिरासत में रहने के बावजूद अकेले में मुलाकात करने की अनुमति मांगी थी। वझे 25 मार्च तक NIA की हिरासत में हैं।

खबरें और भी हैं...