महाराष्ट्र में शराब पर सियासत:संजय राउत बोले-भाजपा की MP शराब को बताती हैं दवा, ये किसान विरोधी हैं

मुंबई7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विवादित टिप्पणी करने के लिए जानी जाने वाली साध्वी प्रज्ञा ने 20 जनवरी को कहा था कि सीमित मात्रा में शराब का सेवन दवा का काम करता है - Dainik Bhaskar
विवादित टिप्पणी करने के लिए जानी जाने वाली साध्वी प्रज्ञा ने 20 जनवरी को कहा था कि सीमित मात्रा में शराब का सेवन दवा का काम करता है

महाराष्ट्र में शराब को लेकर पक्ष-विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यरोप का सिलसिला जारी है। असल में उद्धव सरकार ने सुपर मार्केट व दुकानों पर वाइन बिक्री की इजाजत दी है, इसके बाद से भाजपा उस पर हमलावर है। भारतीय जनता पार्टी, शिवसेना पर शराब कल्चर को बढ़ाने का आरोप लगा रही है।

भाजपा के इस आरोप के बाद शिवसेना सांसद संजय राउत शनिवार को मीडिया के सामने आये और कहा कि फडणवीस सरकार साल 2018 शराब की ऑनलाइन बिक्री और होम डिलीवरी की योजना बना रही थी। यह क्या था? इसके आगे संजय राउत ने कहा कि भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा कहती हैं कि शराब दवा है और इसे कम मात्रा में पिएं।

बता दें कि विवादित टिप्पणी करने के लिए जानी जाने वाली साध्वी प्रज्ञा ने 20 जनवरी को कहा था कि सीमित मात्रा में शराब का सेवन दवा का काम करता है और अगर इसका अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो यह जहर है। हर किसी को इसे समझना चाहिए।

वाइन शराब नहीं : संजय राउत
इससे पहले सरकार के फैसले का विरोध कर ही भाजपा पर संजय राउत ने हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि वाइन शराब नहीं है। यदि वाइन की बिक्री बढ़ती है तो इससे महाराष्ट्र के किसानों को लाभ होगा। कहा था कि भाजपा इसका विरोध कर रही है, लेकिन उसने किसानों के लिए कुछ नहीं किया। हमने महाराष्ट्र के किसानों की आय दोगुनी करने के लिए वाइन बिक्री को लेकर यह कदम उठाया है।

जो इसका विरोध कर रहे वे किसान विरोधी: राउत
महाराष्ट्र के कौशल विकास मंत्री नवाब मलिक के अनुसार, शराब की बिक्री की अनुमति देने का निर्णय फल-आधारित वाइनरी को बढ़ावा देने के लिए लिया गया था जो किसानों को अतिरिक्त आय प्रदान करते हैं। राउत ने कहा, “मुझे नहीं पता कि वाइन को शराब माना जाता है या नहीं, लेकिन यह कृषि उपज से बनाई जाती है। इसकी बिक्री से किसान अधिक कमा सकते हैं। जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं वे किसान विरोधी हैं।"

बता दें कि नियम के अनुसार, राज्य सरकार 1,000 वर्ग फुट और उससे अधिक के सुपरमार्केट और दुकानों में लाइसेंस शुल्क का भुगतान करके वाइन बेच सकती हैं, हालांकि उसे बिक्री के लिए बने नियमों का पालन करना होगा।

फडणवीस ने कहा था- मद्य राष्ट्र
भाजपा का कहना है कि पेट्रोल-डीजल सस्ता करने की बजाए राज्य सरकार शराब बिक्री की सुविधाएं दे रही है। महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि यह महाराष्ट्र है कि मद्यराष्ट्र है? कोरोना काल में किसानों और गरीबों के लिए एक भी मदद की घोषणा राज्य सरकार ने नहीं की। इन्हें बस शराब की चिंता है। पेट्रोल और डीजल महंगा है और शराब सस्ती हो रही है।