• Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Treatment Of Covid Became Cheaper In Maharashtra, The Government Fixed The Cost Of Treatment According To The Category Of A, B And C City

कोरोना मरीजों को राहत:महाराष्ट्र में कोविड का इलाज कराना हुआ सस्ता, सरकार ने A, B और C शहर की कैटेगरी के हिसाब से इलाज की कीमत तय की

मुंबई6 महीने पहलेलेखक: विनोद यादव
  • कॉपी लिंक

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कोरोना मरीजों को राहत देने वाला बड़ा निर्णय लिया है। राज्य सरकार ने कोविड का इलाज करने वाले प्राइवेट अस्पतालों की मनमानी वसूली को रोकने के लिए एक नया नोटिफिकेशन जारी किया है। इसके अनुसार महाराष्ट्र के सभी शहरों को A, B और C कैटेगरी देकर हर शहर में कोरोना के इलाज का रेट तय कर दिया गया है। ऐसे में कोई भी निजी अस्पताल इससे ज्यादा बिल नहीं बना पाएगा।

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि राज्य सरकार ने यह दर पहले भी तय की थी। हालांकि, तब शहरों का वर्गीकरण नहीं किया गया था। पिछले नोटिफिकेशन के अनुसार निजी अस्पतालों से कहा गया था कि वे अपने 80% बेड पर कोरोना मरीजों से सरकारी दर पर बिल वसूलें। बाकी 20% बेड के रेट अपने हिसाब से तय कर सकते हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि पिछले नोटिफिकेशन की तारीख बुधवार को खत्म हो गई। इसमें बदलाव करके नया नोटिफिकेशन जारी किया गया है। राज्य सरकार की ओर से पहले तय की गई दर बड़े शहरों और दुर्गम इलाकों में समान थी।

गांवों में कोरोना का इलाज कराना हुआ सस्ता
नए बदलाव से महाराष्ट्र के शहरी इलाकों की तुलना में ग्रामीण इलाकों में कोविड-19 का इलाज कराना अब सस्ता हो गया है। यह वर्गीकरण ठीक उसी तरह किया गया है, जैसे बीमा कंपनियां और विभिन्न प्रकार का भत्ता देने में किया जाता है।

कोरोना मरीज को प्रोविजनल बिल देना ही होगा: शिंदे
राज्य स्वास्थ्य गारंटी सोसाइटी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. सुधाकर शिंदे ने बताया कि कोरोना संक्रमित को अस्पताल में भर्ती करते वक्त प्रोविजनल बिल देना अनिवार्य कर दिया गया है। इसके साथ ही यदि किसी अस्पताल ने इलाज का ज्यादा बिल वसूला तो फ्लाइंग स्क्वाॅड जांच कर संबंधित अस्पताल के खिलाफ कार्रवाई कर सकता है।

महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों के इलाज की नई दर इस प्रकार से होंगी

आइसोलेशन वार्ड (प्रति दिन)

  • A वर्ग शहर में 4,000 रुपए, B वर्ग शहर में 3,000 और C वर्ग शहर में 2,400 रुपए दर तय की गई है। इसमें जरूरी देखभाल, नर्सिंग, टेस्ट, दवा, बेड खर्च और खाने का खर्च शामिल है। कोरोना टेस्ट का खर्च अस्पताल को सरकार की तय दर पर लेना होगा। बड़े टेस्ट और जांच, उच्च स्तर की बड़ी दवाइयों का खर्च इसमें शामिल नहीं है।

वेंटिलेटर सहित ICU और आइसोलेशन वार्ड

  • A वर्ग शहर के लिए 9,000 रुपए, B वर्ग शहर में 6,700 रुपए और C वर्ग शहर में 5,400 रुपए दर तय की गई है।

सिर्फ ICU आइसोलेशन वार्ड

  • A वर्ग शहर के लिए 7,500 रुपए, B वर्ग शहर के लिए 5,500 रुपए और C वर्ग शहर के लिए 4,500 रुपए दर तय की गई है।
खबरें और भी हैं...