पंचायत का कारनामा:मृतक से करवा दी 35 दिन मजदूरी, सीईओ ने कहा - करेंगे जांच

अनूपपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अनूपपुर जनपद के फुलकोना में मौत के 13 वर्ष बाद मृतक से न सिर्फ 35 दिन की मजदूरी कराई गई बल्कि उसका भुगतान भी किया गया। मामले के खुलासे के बाद अब सीईओ उषा किरण गुप्ता ने कहा है कि मामले की जांच करवाई जाएगी और जो भी मामले में दोषी पाया जाएगा उस पर कार्रवाई की जाएगी। आचार संहिता को देखते हुए शासन द्वारा प्रदत्त बजट को खत्म करने के लिए सचिव और रोजगार सहायकों ने जमकर मनमानी की थी जिसकी पोल अब धीरे-धीरे खुलने लगी है।

ग्रामीणों का फूटा आक्रोश

फुलकोना ग्राम में ही निवास करने वाले केवटलाल नाम के व्यक्ति की मौत लगभग 13 वर्ष पहले हो चुकी है, उसके नाम पर जॉब कार्ड जनरेट करके रोजगार सहायक ने मृत व्यक्ति के नाम पर मास्टर रोल क्रमांक 11848 डिमांड आईडी 795767 जिसमें दिनांक 12,10,21 से 12,12,21 से लगभग 35 दिन कार्य का उल्लेख किया गया है। ग्रामीण इस मामले के खुलासे के बाद काफी आक्रोशित हैं। ग्रामीणों ने यह भी आरोप लगाया है कि बीते 4 महीने में ग्राम पंचायत में कराए गए सभी विकास कार्यों की सूक्ष्मता से जांच कराई जाए तो और भी बड़ा घोटाला सामने आएगा।

दोषियों पर होगी कार्रवाई

मजदूरी भुगतान में सिर्फ मृतक ही नहीं बल्कि गांव में ही निवास करने वाली 80 वर्षीय वृद्धा जो मानसिक रूप से दिव्यांग हैं, उससे भी मजदूरी करा ली गई। मानसिक रूप से दिव्यांग का नाम इंदरिया है।उसे भी कार्य पर ना रख के इसके नाम पर भी फर्जी मास्टर तैयार कर फर्जी हाजिरी भरी जा रही है। जबकि वह मानसिक रूप से असमर्थ हैं फिर भी रोजगार सहायक के द्वारा फर्जी डिमांड तैयार किया गया। उषा किरण गुप्ता सीईओ जनपद पंचायत अनूपपुर का कहना है कि पूरे मामले की जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी। अगर मृतक को मजदूरी का भुगतान किया गया है तो यह निश्चित ही गलत है।

खबरें और भी हैं...