त्रि स्तरीय पंचायत चुनाव:मतगणना के दौरान अभ्यर्थी व मतगणना अभिकर्ता को कक्ष से बाहर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी

ईसागढ़5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

त्रि स्तरीय पंचायत चुनावों की तैयारियों को लेकर रविवार को मॉडल हायर सेकंडरी स्कूल में तीन दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। इसमें पहले दिन जिला मुख्यालय से आए मास्टर ट्रेनर ने उपस्थित अधिकारियों और कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया। अलग-अलग दो शिफ्ट में दिए गए प्रशिक्षण में द्वितीय चरण में होने वाले चुनाव की बारीकियों से अवगत कराया।

बैठक का मुख्य उद्देश्य पहले चरण में हुए मतदान के बाद जो कमियां सामने आई थी। उन कमियों में सुधार करने के लिए कलेक्टर आर उमा महेश्वरी के निर्देश पर प्रशिक्षण आयोजित किया गया। इसमें दूसरे और तीसरे चरण के चुनाव में कमियों को दूर करने के नए दिशा निर्देश जारी किए। इससे पंचायत चुनाव में किसी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।

मतदान अभिकर्ता एवं मतगणना अभिकर्ता की नियुक्ति एक बार ही की जाएगी
पंचायत चुनाव के लिए मतदान अधिकारी क्रमांक 2 जनपद एवं जिला पंचायत का एवं मतदान अधिकारी क्रमांक 3 सरपंच एवं पंच का मतपत्र मतदाता को जारी करेगा। मतदान अभिकर्ता एवं मतगणना अभिकर्ता की नियुक्ति पीठासीन अधिकारी द्वारा मतदान शुरू होने के पूर्व एवं मतगणना शुरू होने के पूर्व एक बार ही की जाएगी। एक बार निर्वाचन एवं मतगणना अभिकर्ता की नियुक्ति के बाद अपरिहार्य स्थितियों (मृत्यु, बीमारी या दुर्घटना) के अलावा नहीं बदला जाएगा।

मतपत्रों की गणना केवल एक बार ही की जाएगी
मतदान समाप्ति के बाद मतपत्रों की मतगणना केंद्र पर अभ्यर्थी या उसके मतगणना अभिकर्ता की उपस्थिति में केवल एक बार ही किया जाना है। अत: उक्त कार्य को पूर्ण सावधानी एवं स्पष्टता के साथ किया जाए। मतगणना के दौरान अभ्यर्थी एवं मतगणना अभिकर्ता को मतगणना कक्ष से बाहर जाने की अनुमति किसी भी स्थिति में नहीं दी जाएगी। उक्त स्थिति की घोषणा पूर्व में पीठासीन अधिकारी द्वारा संबंधित अभ्यर्थी या उसके गणना अभिकर्ता को कर दी जाए।

मतदान समाप्त होने के बाद 3 बजे मतदाता को दी जाएगी पर्ची
पीठासीन अधिकारी मतदान समाप्ति दोपहर 3 बजे से 30 मिनट पहले घोषणा करेगा एवं मतदान समाप्ति के समय 3 बजे मतदान केंद्र परिसर में उपस्थित मतदाता को ही पर्ची वितरित करेगा। उक्त पर्चियों की हस्ताक्षरित पर्चियां पूर्व संध्या को ही पर्ची वितरण करेगा। उक्त पर्चियों को पूर्व संध्या को ही तैयार किया जाएगा। पीठासीन अधिकारी मतदान के तुरंत बाद यह सुनिश्चित करेंगे कि मतदाता को जारी किया गया मतपत्र अनिवार्य रूप से मत पेटी में डाला जाए।

मतदान प्रक्रिया पूरी होने तक मतदान केंद्र पर रहे अधिकारी और कर्मचारी
मतदान एवं मतगणना की कार्रवाई उपरांत समस्त प्रपत्र मतदान केंद्र से भरने की जिम्मेदारी पीठासीन अधिकारी की होगी। पीठासीन अधिकारी एवं उनकी संपूर्ण टीम मतदान के पूर्व संध्या से लेकर संपूर्ण मतदान प्रक्रिया पूरी होने तक मतदान केंद्र पर अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करेंगे।

खबरें और भी हैं...