• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ashoknagar
  • 3.15 Inches Of Rain 18 Gates Of Rajghat Open, Alert In Four Villages, Worries About Irrigation And Drinking Water Erased

नदी नाले उफान पर:3.15 इंच बारिश- राजघाट के 18 गेट खुले, चार गांवों में अलर्ट, सिंचाई-पेयजल की चिंता मिटी

अशोकनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बारिश के सीजन के करीब ढाई महीने बाद सोमवार-मंगलवार को लगातार बारिश हुई। इससे नदी नाले उफान पर आ गए। तालाब और स्टॉप डेम भी ओवर फ्लो होकर बह निकले। शहर की प्यास बुझाने वाले अमाही तालाब में ओवर फ्लो के 1 फीट ऊपर से पानी बहता रहा। अमाही के फुल हो जाने से शहरवासियों के पूरे साल पेयजल की समस्या दूर हो गई।

वहीं राजघाट में बढ़ते जल स्तर को देखते हुए सभी 18 गेट खोल दिए गए। एक साथ सारे गेट खोल देने से निचले इलाके के 4 गांवों में प्रशासन ने एनाउंस कराते हुए अलर्ट जारी कर दिया। पूरे दिन हुई बारिश से जिले के 4 से 5 रास्ते पूरे दिन बंद रहे। 15 अगस्त की सुबह से ही बारिश की झड़ी शुरू हुई, जो मंगलवार को भी पूरे दिन होती रही।

शहर के बीचों बीच तुलसी सरोवर ओवर फ्लो के ऊपर से निकल गया। राजघाट के दरवाजे खुलने से चुरारी, हसारी, बोरा और खेरा में अलर्ट कर दिया। ग्रामीणों को खेतों व नदी के पास न जाने की चेतावनी दे दी। जिले की औसत बारिश 882 एमएम है। जबकि सीजन में अब तक 707.75 एमएम बारिश हो चुकी है।

इस हिसाब से बचे हुए माह में औसत बारिश के लिए 174.75 बारिश की ओर जरूरत है। पिछले साल 16 अगस्त तक 1 हजार 307.75 एमएम बारिश हो चुकी थी। जबकि इस बार 707.75 एमएम पर ही पहुंचा है।

जिला प्रशासन जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में अलर्ट होकर निगरानी रखी जा रही है। मंगलवार को तहसील बहादुरपुर के ग्राम मलउखेड़ी के 25 ग्रामीण जो ग्राम के पास खेतों में मकान बनाकर निवास करते हैं। कैथन नदी तथा नाले में बाढ़ का पानी आने से जलभराव की स्थिति उत्पन्न होने संबंधी सूचना पर अपर कलेक्‍टर डॉ. अनुज रोहतगी, तहसीलदार दिनेश सांवले तथा एसडीआरएफ के 9 सदस्य बोट के माध्यम से बाढ़ में फंसे 30 लोगों का रेस्क्यु कर सुरक्षित जगह पर पहुंचाया गया।

बाढ़ प्रभावित लोगों को ग्राम पंचायत भवन मलउखेडी में रखा है। साथ ही स्‍थानीय प्रशासन पूरी स्थिति पर निगरानी रखे हुए हैं। जलभराव की स्थिति पर सभी आवश्यक तैयारियां की गई हैं।

छज्जू बरखेड़ा पहुंची कलेक्टर, तीन गेट खोले
छज्जू बरखेड़ा में गेट खोलने में देरी का मामला सामने आया है। ग्रामीणों ने गेट खोलने वाले कर्मचारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। कलेक्टर से मामले की शिकायत भी कर दी। सूचना मिलते ही कलेक्टर उमा महेश्वरी मौके पर पहुंची। हालांकि तब तक 3 गेट खोल दिए गए थे।

अभिषेक सहवाजपुर ने स्थानीय कर्मचारियों पर नाराजगी जाहिर करते हुए कलेक्टर को पिछले साल ऐसे ही बने हालातों से अवगत कराया। इस पर कलेक्टर ने एसडीओ और इंजीनियर को राइट होल्ड तक के निर्देश दे दिए। साथ ही कहा जरूरत पड़ने पर ओर गेट खोले जाएं।

ये रास्ते रहे बंद, लोगों को हुई भारी परेशानी
{ अशोकनगर से पिपरई जाने वाले मार्ग पर पड़ने वाले कजराई की पुलिया उफान पर रही। जिसके चलते अशोकनगर- पिपरई, कुकरेठा से बक्शनपुर का रास्ता बंद रहा।
{ बेतवा नदी के चलते मुंगावली-बीना, बीना कंजिया मार्ग भी बंद रहा।
} मोहरी की ओर जाने वाले मार्ग का निर्माण कार्य चल रहा है, बारिश के चलते ये मार्ग बंद रहा। जिसके चलते लोगों को परेशान होना पड़ा।
} भोपाल, विदिशा में हो रही तेज बारिश के चलते राजघाट के पहली बार 18 गेट खोले गए। जिससे एमपी यूपी मार्ग बंद रहा। पुल पर करीब 15 फीट पानी भरा रहा। ऐसे में सुरक्षा के लिहाज से रास्ते पर पुलिस बल तैनात किया गया।

खबरें और भी हैं...