MP में सरकारी अस्पताल में तंत्र-मंत्र से इलाज!:तांत्रिक मंत्र पढ़कर फेंकता रहा महिला पर पानी, रोका तो परिजनों ने किया विवाद

अशोकनगर9 दिन पहले

मध्यप्रदेश के सरकारी अस्पताल में तंत्र-मंत्र से इलाज करने का मामला सामने आया है। ये घटना शुक्रवार रात अशोकनगर के लखेरी बसारती गांव में हुई। जहां भर्ती एक महिला मरीज के इलाज के लिए उसके परिजन एक तांत्रिक को ले आए।

तांत्रिक वार्ड में पलंग पर लेटी महिला को आधी रात को उठाता है और नीचे बैठने को कहता है। महिला के नीचे बैठते ही वो पानी की बोतल लेकर उसके सामने बैठ जाता है, वहीं दूसरा शख्स महिला के बाल पकड़कर खड़ा हो जाता है। इसके बाद तांत्रिक कुछ बुदबुदाते हुए बोतल में भरे पानी को हाथ में लेकर महिला पर फेंकने लगता है। वो करीब एक घंटे तक इसी तरह महिला के इलाज का ड्रामा करता रहा, फिर वहां से चला गया। वार्ड में भर्ती मरीज यह सब देखते रहे, अस्पताल स्टाफ ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो परिवार वाले विवाद करने लगे।

यह है पूरा मामला
कछिया बाई अहिरवार (65) चार दिन पहले एक शादी में गई थी। जब वह वहां से लौटी तो अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई और वह झटके लेने लगी। यह देख परिजन घबरा गए और उसे जिला अस्पताल लेकर आए। यहां डॉक्टर उसका इलाज कर रहे थे, लेकिन शुक्रवार को उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई। परिजनों को लगा कि उस पर भूत-प्रेत का साया है। इसी कारण वे बाहर से एक तांत्रिक को ले आए। रात 12 बजे तांत्रिक परिजनों के साथ अस्पताल पहुंचा और उसने महिला को पलंग से नीचे बिठाकर करीब एक घंटे तक झाड़-फूंक की।

एक व्यक्ति महिला पर पानी फेंक रहा था, जबकि दूसरे ने बाल पकड़ रखे थे।
एक व्यक्ति महिला पर पानी फेंक रहा था, जबकि दूसरे ने बाल पकड़ रखे थे।

परिजनों ने की मारपीट
अस्पताल के वार्ड में इस प्रकार से अचानक रात में तंत्र क्रिया होते देख अन्य मरीज हैरान रह गए। सभी लोग बिना चप्पल के बैठे हुए थे। महिला के बालों को पकड़कर एक घंटे चले ड्रामे के दौरान स्टाफ भी वहां मौजूद रहा। हालांकि उनके रोकने के बाद भी महिला के परिजन नहीं माने।

सिविल सर्जन डॉ. डीके भार्गव ने बताया कि जानकारी मिलते ही स्टाफ वहां पहुंचा था। तंत्र-मंत्र करने से उन्हें रोका गया, लेकिन परिजन उस समय कोई बात सुनने को तैयार नहीं थे। वे तो स्टाफ से भी विवाद करने लगे। महिला को 4 दिन पहले अस्पताल में भर्ती करवाया था। महिला के परिजनों ने बताया कि उन्हें बाहरी हवा का डर था। इस वजह से उनके ही एक रिश्तेदार को झाड़-फूंक कराने लाए थे।