अध्यक्ष व उपाध्यक्ष चुनाव:चंदेरी नपा चुनाव- भाजपा के 3 पार्षदों की क्रॉस वोटिंग से कांग्रेस की जीत

अशोकनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर पालिका चंदेरी में अध्यक्ष व उपाध्यक्ष चुनाव में शुक्रवार को मुकाबला रोचक रहा । 9 पार्षदों वाली भाजपा ने अपना अध्यक्ष बनाने के लिए 2 निर्दलीय को साध लिया, लेकिन ऐन वक्त पर कांग्रेस ने बाजी पलट दी। अपने 10 पार्षदों के अलावा भाजपा के 3 पार्षदों को तोड़ लिया और अपने 13 वोट प्राप्त करते हुए अध्यक्ष बना लिया। भाजपा के तीन पार्षदों ने कांग्रेस के दशरथ सिंह उर्फ संतोष कोली को वोट दे दिया। वहीं उपाध्यक्ष चुनाव के नतीजे पूरी तरह उलट आए।

यहां कांग्रेस ने दरकसा अंजुम को मैदान में उतारा। वहीं भाजपा की तरफ से राजीव सिहारे चुनाव लड़े। जब नतीजा आया तो भाजपा को 13 व कांग्रेस को महज 8 वोट मिले। चुनाव के दौरान पुलिस ने नगर पालिका को चारों तरफ से घेरे रखा। वोटिंग के लिए सिर्फ पार्षदों को ही एंट्री मिली। वहीं राज्यमंत्री बृजेंद्रसिंह यादव भी वोटिंग के समीकरण साधने के लिए पूरे समय चंदेरी रहे। हालांकि वे नगर पालिका नहीं पहुंचे। एक निजी होटल में बैठकर पूरा अपडेट लेते रहे।

ऐसे हुआ खेला
एक निर्दलीय को प्रत्याशी बनाया, दूसरे को गायब किया
21 वार्ड वाली नगर पालिका में कांग्रेस ने 10 व भाजपा ने 9 वार्ड जीते थे। ऐसे में 2 निर्दलीय किंग मेकर की भूमिका में आ गए। भाजपा का पूरा फोकस इन दोनों पर ही रहा। एक निर्दलीय मदनलाल खटिक को तो भाजपा ने अध्यक्ष का प्रत्याशी ही बना दिया। दूसरी निर्दलीय पार्षद मुन्नी बाई को भाजपा ने भूमिगत कर दिया। वे मतदान से पहले ही प्रगट हुईं। इस तरह भाजपा कागजों पर मजबूत दिख रही थी लेकिन वह अपने ही पार्षदों को साधना भूल गई। नतीजे निकल तो 10 पार्षद वाली कांग्रेस को 13 वोट मिल गए। वहीं 11 लेकर चल रही भाजपा के हिस्से 8 वोट आए।

5 निकायों में भाजपा, सिर्फ एक चंदेरी में कांग्रेस का कब्जा
जिले की कुल 6 निकायों में से इस बार 5 निकायों में भाजपा का कब्जा हो गया। खास बात यह रही की इनमें से चार निकाय अशोकनगर, शाढौरा, पिपरई और मुंगावली में भाजपा ने निर्विरोध अपना अध्यक्ष बना लिया। वहीं ईसागढ़ में भाजपा समर्थित पार्षदों में सहमति नहीं बनने पर भाजपा के ही दो पार्षदों के बीच टक्कर हुई। यानी इन 5 निकायों में विपक्ष यानी कांग्रेस पूरी तरह से सरेंडर साबित हुई। सिर्फ एक ही निकाय नपा चंदेरी में ही कांग्रेस अपना अध्यक्ष बनाने में कामयाब हुई है।

जयपुर से सीधे विधायक निवास पहुंचे कांग्रेसी : कांग्रेस के सभी 10 पार्षद पिछले 4-5 दिनों से जयपुर में रहे। शुक्रवार को सुबह सभी पार्षद सीधे विधायक गोपालसिंह चौहान के निवासी पर पहुंचे। यहां से एक साथ नगर पालिका पहुंचे और वोटिंग प्रक्रिया में भाग लिया।

खबरें और भी हैं...