घर की दीवार पर नारा लेखन कराया:राखी त्योहार मांगे एक ही उपहार, डिप्थीरिया से मुक्ति हो इस बार

चांचौड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ब्लॉक चांचौड़ा के ग्राम बीलखेड़ा में पदस्थ आशा सुपरवाइजर सुमिता मीना ने रक्षाबंधन पर डिप्थीरिया से मुक्ति का अनोखा उपहार मांगा। उन्होंने अपने घर की दीवार पर नारा लेखन कराया है ''राखी का त्यौहार मांगे एक ही उपहार, भैया डिप्थीरिया से मुक्ति दिलवा दो इस बार । बीएमओ डॉ शरद यादव ने बताया कि 16 अगस्त से डीपीटी- टीडी अभियान स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाया जाएगा।

जिसमें 5 से 6 वर्ष 10 वर्ष 16 वर्ष की उम्र के किशोरी एवं किशोर बालकों को टिटनेस एवं एडल्ट डिप्थीरिया से बचाव के लिए टीके लगाए जाएंगे। चूंकि डिप्थीरिया एक गंभीर बैक्टीरियल संक्रमण होता है जो नाक और गले की श्लेष्मा झिल्ली को प्रभावित करता है जो एक छाले के रूप में दिखाई देती है और गले में सूजन आना गले में दर्द होना, कुछ खाने पीने में बेहद दर्द होना इसके लक्षण हैं।

इस संक्रमण से बचने के लिए टीकाकरण बहुत जरूरी है। इसी क्रम में ग्रामीण स्तर पर सीएमएचओ डॉ. राजकुमार ऋषिश्वर के निर्देशन में नारे लेखन एवं दीवार लेखन का कार्य भी बीसीएम हेमंत गौड़ के सहयोग से कराया जा रहा है जो कि बीलखेड़ा गांव में आशा सुपरवाइजर द्वारा कराया गया।

बीसीएम ने बताया कि यह प्रेरणा राज्य टीकाकरण संचालक संतोष शुक्ला से उन्हें मिली और उन्होंने डिप्थीरिया से बचने के लिए लोगों को प्रेरणा देने के उद्देश्य से आशा सुपरवाइजर और आशाओं को प्रचार-प्रसार के लिए कहा। आशा सुपरवाइजर ने अनोखे अंदाज में रक्षाबंधन का उपहार नारे लेखन के माध्यम से मांगा जो सभी के लिए प्रेरणादायक साबित हो रहा है।

खबरें और भी हैं...