डेढ़ साल के बेटे ने दी शहीद पिता को मुखाग्नि:राजकीय सम्मान के साथ सलामी देकर किया अंतिम संस्कार; देशभक्ति नारों से गूंजा गांव

अशोकनगर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तिरंगे से लिपटा आया शहीद का पार्थिव शरीर। - Dainik Bhaskar
तिरंगे से लिपटा आया शहीद का पार्थिव शरीर।

गुना में मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए अशोकनगर के बेटे ASI राजकुमार जाटव की विदाई के समय सभी की आंखें नम हो गई। पार्थिव शरीर 1:30 बजे गुना से अशोकनगर पहुंचा। मृतक के 15 महीने के बेटे राजदीप ने उन्हें मुखाग्नि दी। राजकीय सम्मान के साथ सलामी देते हुए उनका अंतिम संस्कार हुआ। पूरा गांव देशभक्ति नारों से गूंज गई।

शहीद के शव को पूरे राजकीय सम्मान के साथ तिरंगा ओढ़ाकर पुलिस के जवान कंधा देकर मुक्तिधाम तक लेकर गए। शहीद की अंतिम यात्रा देखने के लिए शहर में बड़ी संख्या में लोग इक्ठ्‌ठे हो गए। सभी की आखें नम हो गईं। अंतिम विदाई के दौरान एडीजे विजय कटारिया, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्यमंत्री बृजेंद्र सिंह यादव, कलेक्टर, पुलिस विभाग सहित राजस्व विभाग के अधिकारी कर्मचारी मौजूद थे।

सलामी देते हुए पुलिस के जवान।
सलामी देते हुए पुलिस के जवान।

2019 में हुई थी शादी

जाटव के पड़ोसियों ने बताया कि वह अपने परिवार के साथ गणेश कॉलोनी में रहते थे। 2019 में ग्वालियर के डबरा में राजकुमार की शादी हुई थी। 2 दिन पहले ही वह पत्नी और बच्चों को अशोकनगर छोड़कर वापस अपनी ड्यूटी पर चला गए थे। 2017 में उनकी नौकरी लगी थी और वह गुना में पदस्थ थे। जाटव के पिता राम कृष्ण जाटव भी पुलिस में थे। और फरवरी में वे रिटायर हुए थे। राजकुमार अपने तीन भाई और दो बहनों में तीसरे नंबर पर थे।