बालाघाट में शिकार का मामला:वन्यप्राणी कबर बिज्जू का शिकार करने वाले एक नाबालिग सहित आठ गिरफ्तार, भेजे गए जेल

बालाघाट3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बालाघाट वन विकास निगम लामता के पादरीगंज सर्किल के मोहगांव बीट में वन्य प्राणी कबर बिज्जू का शिकार करने का मामला सामने आया है। इस मामले में एक नाबालिग सहित आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है, जिन्हें न्यायालय में पेश कर गत शाम जेल भेज दिया गया है।

जानकारी के अनुसार, परियोजना परीक्षेत्र लामता के अंतर्गत पादरीगंज सर्किल के पश्चिम मोहगांव बीट के कक्ष क्रमांक 1170 में वन्य प्राणी कबर बिज्जू का शिकार किया गया है। सूचना पर वन विकास निगम की टीम ने वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में दबिश देकर शिकारियों को अपनी अभिरक्षा में लिया। साथ ही शिकार किए गए कबर बिज्जू को भी बरामद किया। आवश्यक कार्रवाई के बाद वन्य प्राणी का दाह संस्कार किया गया।

बताया गया कि कबर बिज्जू के शिकार में लिप्त आरोपियों में विनोद, निलेश, अनूप, सुकेश, बसंतराम, नरेश, राजकुमार व अन्य नाबालिग को वन संरक्षण अधिनियम 1972 की धारा 2,9,39,50 व 51 के अंतर्गत गिरफ्तार कर अपराध जारी किया गया है। प्रकरण में विवेचना जारी है। बता दें कि कबर बिज्जू अनुसूची-2 में आने वाला वन्य प्राणी है, जिसे एशियन पाम सिवेट कहा जाता है।

वन विकास निगम लामता की संभागीय प्रबंधक प्रतिभा अहिरवार ने बताया कि मामले में पहले दो लोगों को गिरफ्तार किया गया था, जिन्होंने पूछताछ में अपने अन्य साथियों की जानकारी दी, जिसके बाद उनकी धरपकड़ की गई।

ग्रामीणों में जागरुकता की कमी खतरनाक

प्रतिभा अहिरवार ने बताया कि वन्य प्राणी कबर बिज्जू को लेकर जिले के आदिवासी क्षेत्रों में कई भ्रांतियां हैं। जागरूकता की कमी के कारण आदिवासी इनका शिकार अपने भोजन के लिए करते हैं। उनका मानना है कि इसे खाने से ताकत बढ़ती है, जबकि वन्य प्राणी का किसी भी मकसद से शिकार करना गैर कानूनी है। लोगों से अपील है कि वे वन्य प्राणियों का शिकार न करें और उनके शिकार को रोकने में सहयोग करें।

खबरें और भी हैं...