• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Balaghat
  • Shopkeepers Operating In Front Of The Under Construction Indoor Stadium In Balaghat District Voluntarily Removed The Occupation

तीन दुकानें खाली कराईं:बालाघाट जिले में निर्माणाधीन इंडोर स्टेडियम के सामने संचालित दुकानदारों ने स्वेच्छा से हटाए कब्जे

बालाघाट6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कार्रवाई करता प्रशासनिक अमला। - Dainik Bhaskar
कार्रवाई करता प्रशासनिक अमला।

बालाघाट जिले में वारासिवनी के नवनिर्मित निर्माणाधीन इंडोर स्टेडियम के सामने से दुकानदारों ने स्वेच्छा से कब्जे हटा लिए हैं। जानकारी के अनुसार एक दिन पहले काॅम्प्लेक्स का एसडीएम संदीप सिंह के द्वारा निरीक्षण कर कब्जे हटाने के निर्देश जारी किए थे, लेकिन काॅम्प्लेक्स में स्थित दुकानदारों ने कब्जे नहीं हटाए, तो एसडीएम से शुक्रवार की सुबह 10 बजे के दौरान राजस्व, नपा और पुलिसबल के साथ जेसीबी मशीन लेकर मौके पर पहुंचे और उक्त स्थान पर संचालित दुकानदार को दुकानें खाली करने के लिए कहा।

जिस पर दुकानदारों के द्वारा स्वयं दुकान को खाली कर दिया गया। इस दौरान ऑटो पार्टस् की दुकान के द्वारा आधा ही खाली किया गया था, जिसे एसडीएम के द्वारा अपनी अभिरक्षा में लेकर सुबह 10 बजे तक खाली करने के लिए कहा गया और बाकी दुकानें खाली करवाने का सिलसिला देर शाम तक चलता रहा।

राजस्व भूमि पर थीं दुकानें

इस संंबंध में एसडीएम संदीप सिंह ने बताया कि नजूल की जमीन पर उक्त दुकानें बनी हुई थीं जो किराए से थीं और करीब 100 साल से ज्यादा की हो गई हैं, जिसकी स्थिति पूरी तरह जर्जर हो गई थी। पीडब्ल्यूडी विभाग से इसकी टेक्नीकल रिपोर्ट ली थी, जिसमें जान-माल की हानि हो सकती है। कहा गया है जिस पर खाली करवाने का काम किया जा रहा है।

महीने भर पहले ही दी थी सूचना

एसडीएम सिंह ने बताया कि उक्त दुकानों को खाली करने के लिए पहले भी बताया गया था और पूरे एक महीने का समय दिया गया था किंतु इनके द्वारा खाली नहीं की गईं। न सामान हटाया गया और जर्जर दुकानों में टीनशेड लगाकर काम कर रहे थे, जो पूरी तरह अवैध कब्जा है।

इसके लिए अल्टीमेटम देने पर भी दुकानें खाली ना करने पर दल-बल के साथ उपस्थित होकर खाली करवा रहे हैं। यहां पर तीन दुकान हैं, जिसमें एक स्थाई और 2 अस्थाई दुकानें हैं। तो दो अस्थाई दुकानों को खाली करवाया जा रहा है। इस अवसर पर राजस्व नगरपालिका के अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे।