सड़क हादसे में दो भाई घायल:​​​​​​​बालाघाट में आरटीओ के ड्राइवर की लापरवाही से दो बाइक सवार घायल, एक गंभीर

बालाघाट14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बालाघाट में बस स्टैंड में नियम विरुद्ध ऑटो खड़ा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान दो सगे भाई बुधवार को हादसे का शिकार हो गए। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, जिला परिवहन अधिकारी के सरकारी वाहन के ड्राइवर की लापरवाही से ये हादसा हुआ।

वाहन में जिला परिवहन अधिकार बैठे थे। हादसे में ग्राम लड़सड़ा निवासी कोमेंद्र मसकरे (18) और भूवेंद्र मसकरे (21) गंभीर रूप से घायल हो गए। हादसा रानी अवंती बाई चौक के पास दोपहर 2 बजे के आसपास तब हुआ, जब जिला परिवहन अधिकारी अमिनेष गढ़पाल अमले के साथ सरकारी वाहन से मलाजखंड की तरफ जा रहे थे।

तभी चौक के पास खड़े ऑटो ड्राइवरों के खिलाफ कार्रवाई करने अधिकारी ने ड्राइवर से गाड़ी रोकने कहा। ड्राइवर ने अचानक ब्रेक लगाकर गाड़ी धीमी कर दी।

गाड़ी रुकती इससे पहले ही वाहन के दरवाजे खोल दिए गए। इसी दौरान पीछे से आ रहे मसकरे बंधु दरवाजे से जा भिड़े और सड़क पर गिर गए। बाइक कोमेंद्र चला रहा था, जिसके सिर, मुंह व कंधे पर अधिक चोटें आई हैं। जबकि बड़े भाई भूवेंद्र को मामूली चोटें आई हैं। जानकारी के अनुसार, कोमेंद्र को गोंदिया रेफर किया गया है।

घायलों को ऑटो ड्राइवर ही ले गए अस्पताल

प्रत्यक्षदर्शी नाजिम खान ने बताया कि हादसे के बाद घटनास्थल पर भीड़ जमा हो गई। वाहन चला रहा कोमेंद्र लहूलुहान था, जिसे कुछ ऑटो ड्राइवरों व स्थानीय लोगों की मदद से एक ऑटो में बैठाकर अस्पताल तक पहुंचाया। उस वक्त घटना स्थल पर परिवहन अधिकारी भी मौजूद थे। लोगों ने आरोप लगाया कि अधिकारी न घायलों का अस्पताल ले गए और न ही उनके इलाज के लिए कोई व्यवस्था की। जबकि परिवहन अधिकारी का कहना रहा कि उन्होंने घायलों के उपचार के लिए सारी व्यवस्था की थी।

हमेशा बनी रहती है हादसे की आशंका

जिस जगह घटना हुई वहां बगल में ऑटो स्टैंड है। सड़क के दूसरे छोर पर अक्सर ऑटो व बसें खड़ी रहती हैं। बस स्टैंड पहुंचने और यहां से मलाजखंड की तरफ जाने इस मुख्य सड़क में भीड़ की स्थिति बनी रहती है। यहां खड़े रहने वाले ऑटो चालकों के खिलाफ कार्रवाई के मकसद से परिवहन विभाग का अमला पहुंचा था, लेकिन चालक की लापरवाही के चलते बड़ा हादस हो गया।

इस संबंध में चर्चा के दौरान परिवहन अधिकारी अनिमेष गढ़पाल ने बताया कि ये दुखद घटना है। हादसे के बाद घायलों को मैंने न सिर्फ जिला अस्पताल ले गया बल्कि वहां उनके लिए उपचार की व्यवस्था की। कोमेंद्र के बेहतर इलाज के लिए उसे गोंदिया के निजी अस्पताल में भर्ती भी कराया है। डॉक्टरों का कहना है कि उसके सिर पर गंभीर चोट नहीं है और वह जल्द ठीक हो जाएगा।

इधर, युवक से बहस में उलझा सिपाही

दो सगे भाइयों के घायल होने की घटना से घंटाभर पहले बस स्टैंड स्थित डाकघर के सामने एक युवक और यातायात सिपाही की बहस हो गई। बहस बढ़ती देख वहां पलभर में लोगों की भीड़ जमा हो गई। दरअसल, सिपाही केएल बिसेन ने अपने दो पहिया वाहन से एक युवक की बाइक को पीछे से ठोस मार दी, जिससे युवक की बाइक का साइड गार्ड क्षतिग्रस्त हो गया। युवक ने इसका सिपाही से हर्जाना भरने कहा, जिस पर सिपाही ने गलती से ठोस लगने की बात कही। इसी बात को लेकर दोनों के बीच देर तक बहस होती रही।

बालाघाट जिला परिवहन अधिकारी अनिमेष गढ़पाल ने बताया कि घायलों के लिए इलाज के लिए जो संभव होगा, वह किया जाएगा। मैंने जिला अस्पताल में भी इलाज की व्यवस्था की थी और गोंदिया के अस्पताल में कोमेंद्र को भर्ती कराया है।

खबरें और भी हैं...