प्रर्दशन:आरोपों व एफआईआर को लेकर सरकार की निंदा

बड़वानी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रैली में शामिल महिलाएं। - Dainik Bhaskar
रैली में शामिल महिलाएं।

नर्मदा नव निर्माण ट्रस्ट से जुड़ी मेधा पाटकर व अन्य लोगों पर दर्ज केस को लेकर देशभर से आए विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने विरोध जताया। सरकार के रवैये की निंदा करते हुए 37 साल के संघर्ष को बयां कर मेधा पाटकर व संगठन को बदनाम करने की साजिश बताया। नर्मदा बचाओ आंदोलन प्रमुख मेधा पाटकर की अगुवाई में रविवार को कारंजा चौक स्थित शहीद स्तंभ से रैली निकाली गई। इसमें हजारों लोग शामिल हुए। आदिवासी लोक नृत्य की प्रस्तुति दी गई। पुराने कलेक्टोरेट के सामने जनसभा हुई।

नर्मदा बचाओ आंदोलन के कार्यकर्ताओं सहित देशभर की विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने रैली व जनसभा में हिस्सा लिया। इसमें पर्यावरणविद् प्रफुल्ल सामंतरा, कन्नड़ के कलाकार चेतन अहिंसा, जन कवि बल्ली चिमाजी, किसान नेता डाॅ. सुनीलम, राजपुर विधायक बाला बच्चन, नपाध्यक्ष लक्ष्मण चौहान, चंद्रशेखर यादव, मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित संदीप पांडे, इरफान जाफरी, वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता सहित नर्मदा घाटी के हजारों लोग शामिल हुए। नर्मदा बचाओ आंदोलन ने नर्मदा घाटी में 37 साल भ्रष्टाचार का नारा देकर रैली निकाली। जनसभा को संबोधित कर मेधा पाटकर पर दर्ज एफआईआर को साजिश बताया।

खबरें और भी हैं...