अभियान:पद्मश्री कांता बहन की प्रतिमा का दुग्ध अभिषेक कर मनाई जयंती

निवालीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतिमा का अभिषेक कर पूजन करती छात्राएं। - Dainik Bhaskar
प्रतिमा का अभिषेक कर पूजन करती छात्राएं।

जिले में बालिका शिक्षा को बढ़ाने देने और आदिवासी क्षेत्र में लोगों को शिक्षा के लिए जागरूक करने वाली पद्मश्री कांता बहन त्यागी की 69वीं जयंती मनाई गई। पलसूद रोड स्थित कस्तूरबा वनवासी कन्या आश्रम में मंगलवार को छात्राओं व आश्रम संचालक सहित शिक्षकाें ने पूजन कर उन्हें याद किया। वहीं सोमवार को उनकी पुण्यतिथि भी मनाई गई थी। पद्मश्री कांता बहन की जयंती पर सुबह 7.30 बजे आश्रम परिसर में सफाई अभियान चलाया गया। सभी ने श्रमदान कर आश्रम की सफाई की।

सुबह 8 बजे पूर्व छात्राओं ने कांता दीदी की प्रतिमा का दूध से अभिषेक किया। सुबह 8.30 बजे सर्वधर्म प्रार्थना व संगोष्ठी हुई। कर्मचारी राजा शर्मा ने बताया यह आश्रम उस दीपक के समान है जो स्वयं जलकर औरों को रोशन कर रहा है।

आश्रम की संचालिका पुष्पा सिन्हा सिन्हा ने कहा कांता दीदी ने जिले के निवाली व ग्रामीण अंचल में शिक्षा का बीज बोकर छोटा सा पौधा तैयार किया। उपप्रतिनिधि कलावती किराड़े ने कहा शिक्षा दीक्षा व संस्कार के साथ बालिकाओं को आत्मनिर्भर बनाने का कार्य निरंतर जारी रहेगा। कांता बहन की विचारधारा हमेशा जीवित रहेगी।

खबरें और भी हैं...