2 साल बाद प्रभातफेरी में शामिल होंगे विद्यार्थी:नगर परिषद ने प्रभातफेरी के मार्ग की सफाई कर गड्ढों में भरवाई मुरुम

निवाली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रभातफेरी मार्ग की सफाई करवाने के बाद गड्ढों में मुरुम डलवाई जा रही है। - Dainik Bhaskar
प्रभातफेरी मार्ग की सफाई करवाने के बाद गड्ढों में मुरुम डलवाई जा रही है।

इस स्वतंत्रता दिवस पर दो साल बाद स्कूल के विद्यार्थी 15 अगस्त को निकलने वाली प्रभातफेरी सहित मुख्य कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। दो साल से कोरोना महामारी के चलते स्वतंत्रता दिवस के आयोजन पर बच्चों को शामिल नहीं किया जा रहा था। प्रभातफेरी निकलने वाले मार्ग पर गड्ढे होने से नगर परिषद उन्हें मुरुम डलवाकर बंद करवा रही है। ताकी बच्चों को परेशानी नहीं हो लेकिन बारिश हाेने पर फिर से कीचड़ की परेशानी सामने आएगी।

स्वतंत्रता दिवस को लेकर सभी शासकीय कार्यालयों की साफ-सफाई करवाने के साथ रंगरोगन का कार्य किया जा रहा है। इस साल निकलने वाली प्रभातफेरी को लेकर मार्ग की झाड़ू लगाकर सफाई करवाई जा रही है। वहीं मार्ग पर गड्‌ढों को बंद करने के लिए मुरुम डलवाई जा रही है। ताकी स्कूल के बच्चों को जाने में परेशानी नहीं हो लेकिन बारिश होने पर मुरुम से कीचड़ होने की आशंका है। विभिन्न शासकीय कार्यालयाें में झंडावंदन करने के लिए तैयारी की जा रही है।

सीएमओ आरएस सोलंकी ने जानकारी देते हुए बताया कि जनपद पंचायत में नवनिर्वाचित जनपद अध्यक्ष रायलीबाई चतरसिंह पटेल ध्वजारोहण करेंगीं। वहीं नगर परिषद कार्यालय में नगर परिषद अध्यक्ष तरुणा नरेंद्र सिसोदिया पार्षदों के साथ ध्वजारोहण करेंगीं। इसके साथ ही सभी शासकीय कार्यालयों में विभाग के अधिकारी तय समय पर ध्वजारोहण कर आजादी का जश्न मनाएंगे। स्कूल के बच्चों को प्रसादी में नुक्ती प्रसादी का वितरण किया जाएगा।

तीन दिन तक हर घर फहराएगा तिरंगा
पीएम के आह्वान पर पूरे देश में आजादी का 75वां अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। हर घर तिरंगा अभियान के तहत पूरे सप्ताह रैली व यात्राएं निकालकर लोगों को जागरूक किया गया। इसका असर देखने को मिल रहा है। लोग 13 अगस्त से अपने घरों पर झंडे फहराने लग गए हैं। यह झंडा 15 अगस्त तक फहराया जाएगा। पिछले दो साल से कोरोना महामारी के चलते राष्ट्रीय पर्व को सावधानी के साथ मनाया जा रहा था। इस साल कोई भी पाबंदी नहीं होने से पूरे उत्साह के साथ आजादी के दिन का जश्न मनाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...