राबर्ट सिंह मार्टिन को दी श्रद्धांजलि:15 साल पहले शहीद हुए बेटे को याद कर मां का आंखों में आ गए आंसू

सेंधवा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • BSF के असिस्टेंट कमांडेंट व थाना प्रभारी ने किया याद

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के असिस्टेंट कमांडेंट लाखनसिंह मुजाल्दे शनिवार को अपने सैनिकों के साथ इंदौर से चाटली गांव पहुंचे। यहां शहीद रॉबर्ट सिंह मार्टिन के शहीद स्मारक पहुंचे। उन्होंने शहीद की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। राॅबर्ट की मां का सम्मान किया। बेटे को श्रद्धांजलि देते समय मां और परिजनों के आंसू निकल आए।

असिस्टेंट कमांडेंट मुजाल्दे ने शहीद की मां कलावती सिंह का सम्मान कर उन्हें महानिदेशालय सीमा सुरक्षा बल द्वारा जारी ऑपरेशन कैजुअल्टी प्रमाण पत्र प्रदान किया। भविष्य में मिलने वाली सुविधाओं व योजनाओं से भी अवगत कराया। थाना प्रभारी ग्रामीण विकास कपीस ने पुलिस कर्मियों के साथ शहीद की मां को शाॅल व श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया।

थाना प्रभारी ने भविष्य में कोई समस्या होने पर पुलिस को सूचना देने की बात कही। उन्होंने हर संभव मदद का आश्वासन दिया। इस दौरान ग्रामीण थाना प्रभारी विकास कपिस, सहायक उपनिरीक्षक दीपक ठाकुर, रमेश यादव, प्रधान आरक्षक ईश्वरसिंह, रितेश वागिला, आरक्षक दिलीप कन्नौज सहित बीएसएफ के सैनिक और ग्रामीण मौजूद रहे।

10 फरवरी 2003 को हुए थे शहीद

शहीद रॉबर्ट सिंह मार्टिन चाटली के गांव के निवासी थे। शहीद मार्टिन ने 14 जून 2000 को सीमा सुरक्षा बल आरक्षक के पद पर भर्ती हुए थे। प्रशिक्षण लेने के बाद रॉबर्ट सिंह की नियुक्ति 37वीं बटालियन सीमा सुरक्षा बल मणिपुर में काउंटर इमरजेंसी रूल में हुई थी। अपनी ड्यूटी के दौरान 10 फरवरी 2003 को देश की रक्षा करते हुए मार्टिन सिंह शहीद हो गए थे। इसके बाद चाटली गांव में शहीद रॉबर्ट सिंह मार्टिन की प्रतिमा स्थापित कर यहां शहीद स्मारक बनाया गया।

श्रद्धांजलि देते असिस्टेंट कमांडेंट लाखनसिंह मुजाल्दे।
श्रद्धांजलि देते असिस्टेंट कमांडेंट लाखनसिंह मुजाल्दे।
श्रद्धांजलि देते ग्रामीण थाना प्रभारी विकास कपीस।
श्रद्धांजलि देते ग्रामीण थाना प्रभारी विकास कपीस।
खबरें और भी हैं...