लोक अदालत में सुलझा विवाद:12 साल पहले शादी, 7 साल से चल रहा था केस, समझाइश पर हुआ राजीनामा, अब रहेंगे साथ

मुलताई5 दिन पहले
समझाइश के बाद सुलझा विवाद। एक दूसरे को माला पहनाते पति-पत्नी।

शनिवार को सबसे चर्चित सुलह वाला मामला नांदकुड़ी के कमला और धनराज का रहा।में शनिवार को नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। जिसमें सैकड़ों मामलों में आपसी सुलह हुई, लेकिन शनिवार को सबसे चर्चित सुलह वाला मामला नांदकुड़ी के कमला और धनराज का रहा।

छोटी-छोटी बातों पर होता था विवाद

कमला और धनराज का विवाह लगभग 12 साल पहले हुआ था, और शादी के 5 साल साथ रहने के बाद दोनों अलग हो गए थे। अलग होने का कारण भी बहुत छोटा था। छोटी-छोटी बातों पर दोनों के बीच विवाद होता था। कमला की बातें धनराज को परेशान करती थी, तो धनराज की बातें कमला को नहीं सुहाती थी। बस फिर क्या था दोनों ने अलग होने का फैसला कर लिया। कमला ने कोर्ट में धनराज के खिलाफ केस फाइल कर दिया और भरण पोषण की मांग करने लगी।

दोनों चाहते थे लेकिन कोई पहल नहीं कर रहा था

इधर, धनराज और कमला दोनों पिछले 7 सालों से इस केस को न्यायालय में लड़ रहे थे। दोनों की मुलाकात भी कोर्ट में पेशी पर ही होती थी। दो-तीन साल केस लड़ने के बाद दोनों को समझ में आ गया कि केस डालकर दोनों ही परेशान हो रहे हैं। दोनों के मन में कहीं ना कहीं बात थी कि इस केस को खत्म कर फिर से साथ रहना चाहिए, लेकिन कोई भी पहल नहीं कर पा रहा था।

कोर्ट की समझाइश पर आखिरकार मान गए

यह पहल शनिवार को नेशनल लोक अदालत में न्यायाधीशों ने की। न्यायधीश शालिनी शर्मा, पंकज चतुर्वेदी, दिनेश मीणा, कृपाल सिंह सिसोदिया,आकांक्षा टेकाम,अंकिता चौहान एवं अधिवक्ता सीएस चंदेल ने दोनों को समझाइश दी। कोर्ट की समझाइश पर कमला और धनराज आखिरकार मान गए। कोर्ट में तुरंत ही मालाएं बुलाई गई और एक-दूसरे को माला पहनाकर साथ में विदा कर दिया गया। कमला के साथ उसके दो बच्चे भी खुशी-खुशी अपने पिता के घर चले गए। धनराज ने भी यह वादा किया है कि अब वे आपस में लड़ाई नहीं करेंगे और खुशी-खुशी रहेंगे।

खबरें और भी हैं...