अध्यापकों को 2018 में प्रथम क्रमोन्नति मिले:अध्यापक, शिक्षकों ने बनाया संयुक्त मोर्चा, मिलकर लड़ेंगे अधिकारों के लिए लड़ाई

मुलताई19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रभातपट्‌टन और मुलताई ब्लॉक के अध्यापक शिक्षकों की रविवार को ताप्ती सरोवर के तट पर स्थित गजानन मंदिर में बैठक हुई। अध्यापक शिक्षकों ने संयुक्त मोर्चा का गठन कर अधिकारों की लड़ाई मिलकर लड़ने का संकल्प लिया। इसके साथ अध्यापक शिक्षकों की समस्याओं पर चर्चा भी की गई। शिक्षक बीआर कालभोर ने कहा शासन के संवेदनशीलता की कमीं के कारण 2018 से मिलने वाली क्रमोन्नति चार साल बाद भी शिक्षकों को नहीं मिल रही है।

कालभोर ने कहा 2006 में नियुक्त अध्यापकों को 2018 में प्रथम क्रमोन्नति मिल जाना चाहिए था। इसके बाद भी अभी तक अध्यापकों को प्रथम क्रमोन्नति के आदेश प्रसारित नहीं किए गए है। शासन शिक्षकों के प्रति भेदभाव पूर्ण रवैया अपना रहा है। सरकार शिक्षकों की मांग पर ध्यान नहीं दे रही है। जिससे अध्यापक शिक्षकों में आक्रोश है। अब मांगों के प्रति सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए अध्यापक शिक्षक संगठन ने मिलकर संयुक्त मोर्चा बनाया है।

25 सितंबर को प्रभातपट्‌टन और मुलताई ब्लॉक के अध्यापक शिक्षकों के द्वारा रैली निकालकर शासन के तानाशाही पूर्ण रवैया का विरोध किया जाएगा। शिक्षक अभिनंदन सिंह रघुवंशी, संदीप गणेशे, जितेंद्र खन्ना, प्रमोद सागरे, शाहिद खान, संजयसिंह रघुवंशी, आरके मालवीय, विजय साहू, भोजराज गुजरे, जितेंद्र यादव ने भी अपने विचार रखे। बैठक में सभी ने एकजुट होकर संघर्ष करने का निर्णय लिया।

खबरें और भी हैं...