बैतूल में बाल गोपाल प्रतियोगिता:कृष्ण और राधा की वेशभूषा में नजर आए बालक-बालिकाएं, पढ़ें...पूरी खबर

बैतूलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बैतूल। कान्हा का मनमोहक स्वरूप और अद्भुत छवि हर किसी को बरबस ही लुभाती है। इसी को ध्यान में रखकर कृष्ण जन्माष्टमी पर सिमोरी मिडिल स्कूल ने सिमोरी में बाल गोपाल की रूप सज्जा प्रतियोगिता आयोजित की। संस्था के शैलेन्द्र बिहारिया व अजय बडौदे ने बताया कि ग्राम के आदिवासी बच्चे स्थानीय संसाधनों का प्रयोग करते हुए कृष्ण व राधा की वेशभूषा में तैयार होकर आए। बच्चों को प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया गया था। इस अवसर पर कुमारी ममता गोहर, राधिका पटैया ने सभी प्रतिभागियों से कहा कि हमें जीवन में हर प्रतोयोगिता में भाग लेना चाहिए। इस अवसर पर शैलेन्द्र बिहारिया ने कहा कि श्री कृष्ण का जीवन संघर्षमय था, लेकिन उन्होंने अपने हर संघर्ष में अपने विवेक, बुद्धि और बेहतर रणनीति से हर समस्या को सुलझाया। श्रीकृष्ण एक बेहतर परफेक्शनिस्ट थे। चाहे वो महाभारत का काल हो या अपने मामा कंस का संहार, उन्होंने हर काम बड़े ही परफेक्शन से किया। उन्होंने सिखाया की जीत और हार जिंदगी में होती रहती हैं। श्रीकृष्ण की जिंदगी में ये दोनों ही रहीं। लेकिन उनकी मुस्कान उनके चेहरे से कभी नहीं गई। उन्होंने अपनी इसी दिव्य मुस्कान के साथ अपने शरीर को छोड़ा था। उनकी यह बात जिंदगी में कैसी भी स्थिति आए हमेशा हंसी को नही खोना चाहिए। ऐसी ही अमिट सीख देती है।

खबरें और भी हैं...