कांग्रेस ने प्रदर्शन किया:रेत राजस्व नुकसान की रिकवरी खनिज अधिकारी से करे जिला प्रशासन : कांग्रेस

बैतूलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में रेत संकट को लेकर शुक्रवार को कांग्रेस ने दाेबारा प्रदर्शन किया। कांग्रेसियों ने एक पखवाड़े में दूसरी बार रेत को लेकर प्रदर्शन किया। आंबेडकर चौक से रैली निकालकर कांग्रेसी कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचे, जहां पर खनिज अधिकारी को जमकर खरी खोटी सुनाई। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि जिले में रेत संकट भाजपा के जनप्रतिनिधि और अधिकारियों की मिली भगत से हो रहा है। कांग्रेस के कार्यवाहक जिला अध्यक्ष हेमंत वागद्रे ने राज्यपाल के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर बैतूल में रेत संकट का निराकरण जल्द से जल्द करने की मांग की।

उन्होंने आरोप लगाया कि बैतूल में रेत खदान होने के बावजूद केवल ठेकेदार के हित को देखते हुए खदानें नहीं खोली जा रही हैं, जिसकी वजह से रेत मनमाने दाम में बिक रही है। रेत नहीं मिलने से प्रधानमंत्री आवास सहित अन्य सरकारी निर्माण भी ठप पड़े हैं। खनिज अधिकारी ने समय रहते सही फैसला न लेते हुए ठेकेदार के हित को देखते हुए उसे न्यायालय जाने का पूरा मौका दिया। वागद्रे ने बताया कि खनिज अधिकारी ने बताया कि स्टॉक के टेंडर 25 अक्टूबर तक जमा होंगे, 27 को ओपन होंगे, इसके बाद नियमानुसार स्टॉक से रेत सप्लाई चालू हो जाएगी।

इस दौरान पूर्व जिलाध्यक्ष शांतिलाल तातेड़, पूर्व सहकारी बैंक अध्यक्ष अरुण गोठी, प्रदेश कांग्रेस प्रतिनिधी नवनीत मालवीय, सेवादल जिलाध्यक्ष अनुराग मिश्रा, मुकेश लल्ली वर्मा, धीरू शर्मा, सुनील जेधे, राजकुमार दीवान, रजनीश सोनी, राजा सोनी, राजेश गावंडे सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे।

कांग्रेस का आरोप : खनिज विभाग ने नहीं निकाला वैकल्पिक रास्ता
कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष हेमंत वागद्रे ने आरोप लगाया कि न्यायालय में जो मामला लंबित है वह टेंडर प्रक्रिया से संबंधित है। इसके बावजूद खनिज विभाग ने वैकल्पिक खनन को लेकर कोई रास्ता ही नहीं निकाला। इस वजह से जिले में रेत का भयंकर संकट पिछले 5 महीने से चल रहा है, निर्माण कार्य ठप हैं। बाजार में पैसा नहीं है। दीपावली पर मजदूर वर्ग बेरोजगार है, डंपर और ट्रैक्टर वाले भी परेशान हैं उनकी बैंक की किस्तें भी जमा नहीं हो पा रही हैं। उन्होंने कहा अब तक शासन को जो राजस्व का नुकसान हुआ है उसकी रिकवरी खनिज अधिकारी और ठेकेदार से की जाए यदि शीध्र ही इसका हल नहीं निकाला गया तो कांग्रेस मजदूरों एवं प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राही के हित में चक्काजाम जैसे आंदोलन करने पर मजबूर होगी।

कांग्रेस जनहित के मुद्दों पर क्यों नहीं करती प्रदर्शन‌?
भास्कर संवाददाता ने कांग्रेस के कार्यवाहक जिला अध्यक्ष हेमंत वागद्रे से सवाल किया कि देश में महंगाई चरम पर है। रसोई गैस, किराना सामग्री, सहित अन्य वस्तुओं के दाम लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन कांग्रेस जनता से जुड़े बड़े मुद्दों पर प्रदर्शन नहीं करती ऐसा क्यों, रेत को लेकर 15 दिन में दो बार विरोध किया? इसका जवाब देते हुए वागद्रे ने कहा कि 4 हजार परिवार के लोगों को रेत भरने, ट्रैक्टर चलाने, बिल्डिंग मटेरियल सप्लायर, मिस्त्री, मजदूर अाैर डंपर संचालक को रेत से रोजगार मिलता है। उनका परिवार उसी से पलता है अभी वे बेरोजगार हाे गए हैं इसलिए लीगल तरीके से जिले की रायल्टी चालू करने की मांग की है। उन्होंने कहा जनता के मुद्दे का सवाल है तो किसानों की खराब हुई फसल के सर्वे, बीमा राशि और बढ़ती महंगाई को लेकर भीमपुर ब्लॉक में 20 अक्टूबर को ही बड़ा प्रदर्शन किया था। महंगाई और जन हित के मुद्दों को लेकर दीपावली के बाद जिला मुख्यालय पर बड़ा प्रदर्शन किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...