जिपं सीईओ ने जिला अस्पताल का किया औचक निरीक्षण:कर्मचारियों की ली क्लास, सिक्योरिटी गार्ड बदलने के निर्देश

बैतूल16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिला अस्पताल की शिकायतों की जांच के लिए गठित टास्क फोर्स के अध्यक्ष, सीईओ जिला पंचायत अभिलाष मिश्रा ने देर रात जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण कर अस्पताल प्रबंधन की क्लास ली। इस दौरान उन्होंने ट्रामा सेंटर के प्रसूता वार्ड में साफ-सफाई व्यवस्था संतोषजनक नहीं पाए जाने एवं सिक्योरिटी गार्ड की नामौजूदगी पर नाराजगी जाहिर करते हुए उक्त दोनों कर्मचारियों को बदलने के निर्देश दिए। साथ ही अस्पताल में व्याप्त अव्यवस्थाओं को सुधार लाने के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. ए.के. तिवारी को निर्देश देते हुए सिविल सर्जन डॉ. अशोक बारंगा को कारण बताओ नोटिस जारी करने को भी कहा। इस दौरान उन्होंने सफाई स्टाफ से दस मिनट के अंदर ट्रामा सेंटर की सफाई भी करवाई।

निरीक्षण के दौरान सीईओ जिला पंचायत ने सिविल सर्जन से यह भी कहा कि वे अस्पताल में मरीजों के आने-जाने के रास्ते से ही प्रवेश करें, ताकि वहां की व्यवस्थाओं में सुधार लाया जा सके। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को भी ताकीद किया गया कि वे रात में भी जिला अस्पताल का निरीक्षण करें। सीईओ जिला पंचायत ने यहां मरीजों के परिजनों से भी बात की। साथ ही पूछा कि उपचार में कोई असुविधा तो नहीं है। उन्होंने अस्पताल प्रबंधन को स्पष्ट निर्देश दिए कि अस्पताल में मरीजों के लिए उपचार सुविधाएं नि:शुल्क है। किसी भी मरीज से बाहर से कोई भी उपचार सामग्री न बुलाई जाए। अस्पताल में चिकित्सकों एवं स्टाफ का ड्यूटी चार्ट स्पष्ट रूप से अंकित रहे। साथ ही ड्यूटी चार्ट में संबंधित का मोबाइल नंबर भी अंकित हो। जिला अस्पताल में रात्रि के दौरान अतिरिक्त स्टाफ की ड्यूटी लगाई जाए, ताकि आपातकालीन स्थिति में मरीजों को उचित सेवाएं दी जा सके।

रात के दौरान कॉल-ऑन-ड्यूटी डॉक्टर का रिस्पांस शीघ्रता से हो। इस दौरान उन्होंने अस्पताल के रैफरल रजिस्टर एवं ड्यूटी रजिस्टर की भी जांच की। अस्पताल में पर्याप्त संख्या में डस्टबिन रखने के भी निर्देश दिए। सीईओ जिला पंचायत मिश्रा ने जिला अस्पताल प्रबंधन को स्पष्ट रूप से चेतावनी दी कि किसी भी तरह की शिकायत मिलने पर वे तत्काल अस्पताल पहुंचेंगे एवं दोषियों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...