एक जिला, एक उत्पाद योजना:प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ, 30 दिनों तक होगी ट्रेनिंग

बैतूलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक जिला एक उत्पाद सागौन काष्ठ योजना के अंतर्गत औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान बैतूल में शनिवार से प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया, जो आगामी 30 दिनों तक संचालित रहेगा। प्रशिक्षण शुभारंभ अवसर पर राकेश कुमार डामोर, वन मण्डलाधिकारी उत्तर बैतूल सा. जीपी कुदारे उपवन मण्डलाधिकारी बैतूल सा. रोहित डाबर, महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र बैतूल, ब्रज आशीष पाण्डे, पीयूष तिवारी, सचिव जिला उद्योग केन्द्र बैतूल, डीएस सिंग प्राचार्य आईटीआई बैतूल एवं अन्य अधिकारी, कर्मचारी एवं प्रशिक्षणार्थी उपस्थित रहें। इस दौरान राकेश कुमार डामोर वन मण्डलाधिकारी उत्तर बैतूल सा. द्वारा प्रशिक्षण कार्यक्रम की रूपरेखा एवं प्रशिक्षण से भविष्य में होने वाले लाभ तथा उत्पाद किस प्रकार बिक्री किये जा सकते हैं एवं किस प्रकार मार्केटिंग की जा सकती है इस संबंध में प्रशिक्षणार्थियों को बताया।

लाभ, उत्पाद की मार्केटिंग की दी जानकारी

उल्लेखनीय है कि सागौन काष्ठ के उत्पाद से मूल्य में वृद्धि हेतु काष्ठ के ऊपर कार्विंग एवं नक्काशी के कार्य उच्च गुणवत्ता से किया जा सके, इस हेतु उत्तर वन मण्डल बैतूल (सा.) अंतर्गत फर्नीचर एवं काष्ठ उत्पाद में रूचि रखने एवं व्यापार करने वाले व्यक्तियों का चयन कर एवं आईटीआई बैतूल से पूर्व चयनित छात्र प्रशिक्षणार्थी, जिन्होंने बैंगलोर जाकर काष्ठ उत्पाद का प्रशिक्षण प्राप्त किया उन प्रशिक्षणार्थियों एवं उत्तर वन मण्डल बैतूल (सा.) अंतर्गत चयनित काष्ठ आधारित व्यापार करने वाले फर्नीचर निर्माता, व्यापारी को उत्तर वनमण्डल बैतूल (सा.) द्वारा 30 दिवसीय प्रशिक्षण दिये जाने हेतु प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ आईटीआई बैतूल में किया गया, । एक जिला एक उत्पाद के तहत शासन स्तर से बैतूल जिला को सागौन एवं सागौन उत्पाद के लिये चयनित किया गया। इसी परिकल्पना का चारितार्थ एवं मूर्तरूप देने हेतु राकेश कुमार डामोर, वनमण्डलाधिकारी उत्तर बैतूल (सा.) के अथक प्रयास से सागौन काष्ठ के उत्पादों में मूल्य वृद्धि तथा कार्य उच्च गुणवत्ता से किये जाने हेतु बस्तर काष्ठ कला केन्द्र कोहकापाल जगदलपुर छत्तीसगढ़ से सागौन एवं अन्य काष्ठ में 03 काविंग एवं नक्काशी कार्य में दक्ष प्रशिक्षक धनाराम कश्यप, शिवराम नाग एवं सुखलाल कश्यप को बैतूल में चयनित प्रशिक्षणार्थियों को प्रशिक्षण, काष्ठ में काविंग एवं नक्काशी कार्य का प्रशिक्षण दिए जाने हेतु बुलाया गया।