बोरवेल में गिरा 6 साल का बच्चा, रेस्क्यू जारी:हाथ में रस्सी फंसाकर 12 फीट ऊपर खींचा, फिर वहीं अटका

इरशाद हिंदुस्तानी, बैतूल2 महीने पहले

बैतूल के मांडवी गांव में 6 साल का मासूम बोरवेल में गिर गया है। बच्चा बोर में 53 फीट गहराई पर फंसा हुआ है। अब तक 30 फीट गहरा गड्‌ढा खोदा जा चुका है। बच्चे को निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। तीन जेसीबी मशीन की मदद से बोरवेल से 30 फीट दूर समानांतर गड्‌ढा खोदा जा रहा है।

कलेक्टर अमनवीर सिंह बैंस ने बताया कि बच्चे के हाथ में रस्सी बांधकर उसे ऊपर खींचने की कोशिश की गई, वो करीब 12 फीट ऊपर भी आ गया था। लेकिन इसी बीच रस्सी खुल गई और वो वहीं अटक गया। रात 12 बजे से साइड में एक नए गड्ढे को खोदने का काम शुरू करते हुए बच्चे को निकालने की कोशिश की जा रही है। रस्सी से खींचने के दौरान खुदाई का काम बंद कर दिया गया था। फिलहाल बच्चे में बिल्कुल भी हरकत नहीं दिखाई दे रही है।

खेलते-खेलते अचानक गिर गया
हादसा मंगलवार शाम बैतूल जिले के आठनेर के मांडवी गांव में करीब 5 बजे हुआ। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार तन्मय खेत में खेल रहा था। संभवत: इसी दौरान उसने बोरवेल में झांकने की कोशिश की और बैलेंस बिगड़ने पर वह उसमें जा गिरा। बच्चा नजर नहीं आया ताे सभी बोरवेल की ओर दाैड़े। आवाज लगाने पर बोरवेल के भीतर से बच्चे की आवाज आई। इस पर परिवारवालों ने तत्काल बैतूल और आठनेर पुलिस को सूचना दी।

रेस्क्यू शुरू होने के बाद सबसे पहले बच्चे के लिए बोरवेल में ऑक्सीजन पाइप डाला गया, फिर CCTV कैमरा डाला गया। मौके पर SDERF की टीमें मौजूद हैं। बच्चे को निकालने के लिए बोरवेल से करीब 30 फीट दूर बुलडोजर से समानांतर खुदाई शुरू कर दी गई है। पिता ने बच्चे से बात की तो उसने कहा- यहां बहुत अंधेरा है। मुझे डर लग रहा है। जल्दी बाहर निकालो।

6 साल का तन्मय दूसरी क्लास में पढ़ता है और खेलते-खेलते करीब 400 फीट गहरे बोरवेल के गड्ढे में जा गिरा।
6 साल का तन्मय दूसरी क्लास में पढ़ता है और खेलते-खेलते करीब 400 फीट गहरे बोरवेल के गड्ढे में जा गिरा।

पिता से करवाई बच्चे की बात
घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर कलेक्टर, डीआईजी, एसपी, कमिश्नर श्रीमन शुक्ला, तहसीलदार आठनेर समेत पुलिस-प्रशासन के सभी बड़े अधिकारी भी पहुंच गए।

परिवार को बच्चे से बात करने को कहा गया। बच्चे के पिता ने उससे बात की। तन्मय दूसरी क्लास में पढ़ता है। पिता सुनील दियाबार ने बताया कि 8 दिन पहले ही खेत पर उन्होंने 400 फीट गहरा बोर करवाया था। इसी बोर में उनका बेटा गिर गया है। ​​​​​​

बोरवेल के गड्ढे में गिरे तन्मय के लिए अंदर ऑक्सीजन पाइप डाला गया। साथ ही उसके पिता से भी उसकी बात करवाई गई।
बोरवेल के गड्ढे में गिरे तन्मय के लिए अंदर ऑक्सीजन पाइप डाला गया। साथ ही उसके पिता से भी उसकी बात करवाई गई।

रेस्क्यू में तीन जेसीबी शामिल
कलेक्टर बैतूल अमनवीर सिंह बैंस ने बताया कि बच्चे को निकालने के लिए कोशिश शुरू कर दी गई है। मौके पर तीन जेसीबी मशीन मौजूद हैं। घटना का पता चलते ही तहसीलदार को तुरंत मौके पर रवाना किया गया था।

अपडेट्स

  • रात करीब साढ़े बारह बजे दूसरा गड्ढा खोदने का काम शुरू किया गया। पहले गड्ढे में पत्थर आने की वजह दूसरा गड्ढा खोदने का काम शुरू किया गया।
  • रात 11 बजे बच्चे के हाथ में रस्सी बांधकर उसे ऊपर खींचने की कोशिश की गई, वो करीब 12 फीट ऊपर भी आ गया था। लेकिन इसी बीच रस्सी खुल गई और वो वहीं अटक गया।
  • रात 10.45 बजे तक करीब 20 फीट गड्ढा खोदा जा चुका था। एक अन्य गड्ढा खोदने का काम भी शुरू हुआ था, जिसे थोड़ी देर बाद रोक दिया गया।
  • बच्चे के रेस्क्यू पर मंत्रालय के कंट्रोल रूम से हो रही मॉनिटरिंग, अफसर रख रहे नजर।
  • भोपाल, नर्मदापुरम और हरदा से भी SDERF की टीम रेस्क्यू के लिए बैतूल पहुंची।
  • रात 9 बजे तक बोरवेल के समानांतर 10 फीट गहरा गड्‌डा खोदा जा चुका था।
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए बच्चे की कुशलता की प्रार्थना की।
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए बच्चे की कुशलता की प्रार्थना की।

रेस्क्यू ऑपरेशन के फोटो...

यह भी पढ़ें...

जिंदगी की जंग जीता 4 साल का मासूम

मध्यप्रदेश के छतरपुर में बोरवेल में गिरे 4 साल के मासूम दीपेंद्र को सकुशल निकाल लिया गया है। करीब 7 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बच्चे को बाहर निकाला गया। रेस्क्यू टीम ने बोरवेल के गड्ढे में रस्सी डाली, ये रस्सी बच्चे ने अपने कंधे में फंसा ली। जिसके बाद उसे धीरे-धीरे खींचकर गड्ढे से निकाल लिया गया। बच्चे को निकालते ही मेडिकल चेकअप के लिए अस्पताल ले जाया गया। पढ़ें, पूरी खबर..

11 घंटे बोरवेल में गुजारने वाले बच्चे की आपबीती

छतरपुर में 4 साल का दीपेंद्र बुधवार को खेत में खुले पड़े बोरवेल में खेलते-खेलते गिर गया। सुबह 11 बजे गिरे दीपेंद्र को रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर रात 10 बजे बोरवेल से निकाला गया। बच्चा करीब 25 फीट की गहराई में फंसा था। गड्‌ढे से पैरेलल करीब 28 फीट से भी गहरी खुदाई कर बच्चे को बचाया। घटना ओरछा रोड थाना क्षेत्र के नारायणपुरा और पठापुर गांव के पास की है। फिलहाल दीपेंद्र जिला अस्पताल में एडमिट है। पढ़ें, पूरी खबर...

छतरपुर में बोरवेल में 13 फीट नीचे फंसी बच्ची को बचाया

मध्यप्रदेश के छतरपुर में 80 फीट गहरे बोरवेल में गिरी 15 महीने की दिव्यांशी को आखिरकार 10 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद सुरक्षित निकाल लिया गया। बोरवेल में 13 फीट नीचे गहराई में फंसी दिव्यांशी को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन गुरुवार दोपहर 3.30 बजे से रात 12.47 बजे तक चला। उसे निकालने के लिए पुलिस, SDERF के साथ ही सेना के जवान बिना रुके लगातार कोशिश करते रहे। आखिरकार मेहनत रंग लाई और बोरवेल से दिव्यांशी को बाहर निकाल लिया गया। दिव्यांशी को बाहर आता देख वहां मौजूद भीड़ चिल्लाई- दिव्यांशी तुम जीत गई। मां की आंखों में खुशी के आसूं छलक आए। पढ़ें, पूरी खबर...