51 कुंडीय शिवशक्ति महायज्ञ:गाय में 33 कोटि देवता निवास करते हैं, इसके स्पर्श मात्र से धुल जाते हैं हमारे सभी पाप : पं.अशोक चौबे

आलमपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रावतपुरा सरकार के समीप स्थीत ग्राम वेहटा के सिद्ध बाबा आश्रम पर गौ रक्षार्थ चल रहे 51 कुंडीय शिवशक्ति महायज्ञ चल रहा है। यज्ञ के दौरान चल रही श्रीमद्भागवत कथा में भागवताचार्य पं श्री अशोक चौबे ने कहा कि भागवत कथा श्रवण करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। मनुष्य को धर्म का अनुसरण करना चाहिए, परोपकार परमार्थ के लिए कार्य करना चाहिए। गो रक्षा-गो सेवा करना चाहिए। गाय में 33 कोटि देवता निवास करते हैं, इसके स्पर्श मात्र से हमारे सभी पाप धुल जाते हैं।

उन्होंने कहा कि हमें सदैव गाय माता की सेवा करनी चाहिए। कलयुग में गाय भूख और प्यास से तड़पकर मर रहीं हैं। हमारा फर्ज है कि अगर हम दस गायों को चारा नहीं दे सकते तो कम से कम एक गाय को चारा और पानी अवश्य दो, तुम्हारा वर्तमान क्या भविष्य भी सुधर जाएगा।

रात में हो रही रामलीला

यज्ञ प्रबंधक गो रक्षक संतोष चौहान ने बताया कि श्रद्धा भाव से यज्ञ परिक्रमा और यज्ञ दर्शन करने से यज्ञशाला में स्थापित देवताओं के आशीर्वाद के साथ भूमंडल पर स्थित सभी तीर्थों की परिक्रमा करने का पुण्य फल मिलता है। समस्त पापों का नाश हो जाता है। यज्ञ स्थल आश्रम परिसर में सुबह 7 बजे से 11 बजे तक हवन यज्ञ चलता है। एक बजे से भागवताचार्य पं.अशोक चौबे द्वारा संगीतमयी भागवत कथा सुनाई जा रही है। रात में रामलीला का आयोजन होता है।

बड़ी की संख्या में लोग यज्ञ भगवान के दर्शन कर परिक्रमा कर रहे हैं।
बड़ी की संख्या में लोग यज्ञ भगवान के दर्शन कर परिक्रमा कर रहे हैं।
खबरें और भी हैं...