सोनभद्रिका नदी का पुल:3 साल बाद भी काम अधूरा, 3 दिन बाद यहीं से निकलेंगे रतनगढ़ माता के दर्शन के लिए लाखों श्रद्धालु

आलमपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आलमपुर में सोनभद्रिका नदी पर बनाए जा रहे पुल का निर्माण लगभग तीन साल बीतने के बाद आज भी पूरा नहीं हो पाया है, और आगामी तीन दिनों बाद दीपावली के दिन इसी रास्ते से लाखों श्रद्धालु रतनगढ़ माता धाम के लिए गुजरेंगे।

जानकारी के अनुसार आलमपुर में सोनभद्रिका नदी पर पुराने पुल के तोड़कर नए पुल का निर्माण किया जा रहा है, जिसका शिलान्यास जनवरी 2020 में तत्कालीन सहकारिता मंत्री एवं लहार विधायक डॉ. गोविंद सिंह द्वारा किया गया था। मगर अब लगभग तीन साल बीत जाने के बाद पुल के पिलर भी खड़े नहीं हो पाए हैं। माता रतनगढ़ धाम पर भाई दूज पर लगने वाले लक्खी मेले के लिए मध्यप्रदेश के अलावा उत्तर प्रदेश से आने वाले लगभग पांच लाख से ज्यादा श्रद्धालु इसी मार्ग से गुजरते हैं।

श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला दीपावली के दिन ही पूजा के बाद से प्रारंभ हो जाता है जो कि अगले तीन दिनों तक चलता है मगर निर्माणाधीन पुल से निकलने में वाहनों को खासी परेशानी आएगी क्योंकि पुराने पुल को तोड़कर आवागमन के लिये उसके बगल से एक छोटा सा रपटा बनाया गया है जिस पर आये दिन जाम लगा रहता है|

दो दिन में गुजरते हैं हजारों वाहन

रतनगढ़ धाम पर लगने वाले मेले के लिए मध्यप्रदेश के भाण्डेर, दबोह सहित उत्तरप्रदेश के लखनऊ, कानपुर, उरई, मोंठ, चिरगांव, जालौन, कोंच, पूंछ, हमीरपुर , समथर सहित अन्य जगहों के लाखों श्रद्धालु हजारों वाहनों से गुजरते हैं।

इनका कहना है

इस संबंध में लहार SDM आरए प्रजापति का कहना है कि निर्माणाधीन पुल पर समस्या न हो इसके लिए पुलिस की तैनाती की जाएगी। पूरे रास्ते पर व्यवस्था के लिए कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...