पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • 5 Nakas Built In The District Including Bus Stand, Those Coming From Other Cities Will Be Asked Whether The Vaccine Is Available Or Not

वैक्सीनेशन:बस स्टैंड सहित जिले में बनाए 5 नाके, दूसरे शहरों से आने वालों से पूछा जाएगा वैक्सीन लगी या नहीं

भिंड16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लहार में नाके पर यात्रियाें से चर्चा करते कलेक्टर, एसपी। - Dainik Bhaskar
लहार में नाके पर यात्रियाें से चर्चा करते कलेक्टर, एसपी।
  • सितंबर के अंत तक शत-प्रतिशत आबादी को फर्स्ट डोज लगाने प्रशासन ने बनाई नई रणनीति
  • बाहर से आने वालों से मांगा जा रहा वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट

दूसरे शहरों से भिंड जिले में आने वाले लोगों से अब पूछा जा रहा है कि उन्होंने वैक्सीन लगवाई या नहीं। यदि नहीं लगवाई है तो उनका तत्काल टीकाकरण कराया जा रहा है। इसके लिए भिंड बस स्टैंड सहित जिले भर में पांच नाके बनाए गए हैं। जहां बाहर से आने वाले यात्रियों के साथ वाहन चालक और परिचालक से वैक्सीनेशन कराने का प्रमाण पत्र मांगा जा रहा है।

बता दें कि कोरोना की तीसरी लहर की संभावना के चलते अब सरकार वैक्सीनेशन पर जोर दे रही है। 19 लाख की आबादी वाले भिंड जिले में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की संख्या 12 लाख 85 हजार के करीब है। इसमें से सात लाख 39 हजार आबादी को वैक्सीन का पहला डोज लग चुका है। जबकि पांच लाख 57 हजार आबादी को सितंबर महीने के अंत तक पहला डोज लगाने का लक्ष्य प्रशासन ने तय किया है। इसके अलावा बड़ी संख्या में दूसरों से भी हर रोज लोग भिंड शहर में आते हैं। ऐसे में इनसे संक्रमण फैलने की संभावना के चलते प्रशासन उनके भी वैक्सीनेशन पर जोर दे रही है।

इसके लिए अब दूसरे शहरों से आने वाले लोगों से वैक्सीनेशन का प्रमाण पत्र मांगा जा रहा है। भिंड बसस्टैंड के अलावा इटावा रोड पर फूप, ग्वालियर रोड पर गोहद चौराहा, मुरैना रोड पर गोरमी और जालौन रोड पर लहार में नाके बनाए गए हैं। जहां बिना वैक्सीन लगवाए भिंड आने वाले लोगों का टीकाकरण भी किया जा रहा है।
पांच लाख 57 हजार लोगों को सितंबर माह के अंत तक टीका लगाने का है लक्ष्य

ईंट भट्टा, क्रेशर, खदानों के बाहरी मजदूरों का भी करा रहे सर्वे
जिले में बड़ी संख्या में बाहरी मजदूर काम करते हैं। जो कि ईंट भट्टा, क्रेशर, खदानों के साथ निर्माण एजेंसियों में कार्यरत है। ऐसे में कलेक्टर डॉ सतीश कुमार एस ने जिले में काम करने वाले बाहरी मजदूरों की जानकारी भी एकत्रित करा रहे हैं। इस संबंध में उन्होंने श्रम विभाग और खनिज विभाग को निर्देश दिए हैं। वहीं दोनों विभाग बाहरी मजदूरों की जानकारी ले रहे हैं, जिसमें यह भी पता किया जा रहा है कि इनमें कितने मजदूरों को वैक्सीन लग गई और कितनों को लगना शेष है।

अभियान के पहले दिन 56 फीसदी हुआ टीकाकरण, 14 हजार से ज्यादा को लगा टीका
छह सितंबर से 11 सितंबर तक जिले में टीकाकरण का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। पहले दिन सोमवार को जिले के 280 केंद्रों पर 25 हजार लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया था। लेकिन शाम तक 56 फीसदी यानि 14 हजार 96 लोग ही वैक्सीन लगवाने के लिए आए।

वहीं कलेक्टर डॉ सतीश कुमार, पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह ने भी जिले के नाकों और टीकाकरण केंद्रों का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए टीकाकरण की एक उपाय है। इसलिए जिन्होंने टीकाकरण नहीं कराया है। वे जल्द वैक्सीन लगवाएं। इस दौरान उन्होंने कुछ ईंट भट्टों का भी निरीक्षण किया।

जिले में सात लाख से ज्यादा को लगा पहला टीका, अब 50 हजार लोग नहीं करवा रहे वैक्सीनेशन
जिले की वोटर लिस्ट के अनुसार जिले में 18 वर्ष से अधिक उम्र 12 लाख 85 हजार लोगों से सात लाख 39 हजार लोगों को पहला डोज लग चुका है। जबकि पांच लाख 50 हजार लोगों को सितंबर महीने के 24 दिन में पहला डोज लगाने का लक्ष्य हैं। घर घर सर्वे में सामने आया है कि जिले के करीब तीन लाख लोग रोजगार के लिए दूसरे शहरों में निवास करते हैं। हालांकि उनके वैक्सीनेशन होने के संबंध में भी सरपंचों से मय मोबाइल नंबर के प्रमाण पत्र लिया जा रहा है। वहीं करीब 50 हजार लोग ऐसे हैं, जिसमें बीमारशुदा अथवा गर्भवती महिला या धात्री महिलाएं हैं। जो कि डर के कारण वैक्सीनेशन नहीं करा रही है।

खबरें और भी हैं...