पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना ने बदला रूप:आरटी-पीसीआर जांच में पकड़ नहीं आ रहा कोरोना, सीटी स्कैन कराने पर पता चल रहा फेंफड़े हुए खराब

भिंड15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लापरवाही की इंतेहा.... कोविड वार्ड में संक्रमित मरीज के साथ लेटे और बैठे हैं परिजन, ऐसे तो कोरोना विस्फोट होना तय है। - Dainik Bhaskar
लापरवाही की इंतेहा.... कोविड वार्ड में संक्रमित मरीज के साथ लेटे और बैठे हैं परिजन, ऐसे तो कोरोना विस्फोट होना तय है।
  • आरटी-पीसीआर जांच में संक्रमण पकड़ में नहीं आने पर लोग इलाज नहीं कराते, बाद में देर हो जाती है

कोरोना वायरस ने अपना रूप बदल लिया है। अब वह आरटी-पीसीआर जांच में भी पकड़ नहीं आ रहा है। जबकि वह लोगों के फेंफड़ों को नुकसान पहुंचा रहा है। ऐसे में जब लोग सीटी स्कैन जांच करा रहे हैं तब उन्हें पता चलता है कि फेंफड़े पूरी तरह से संक्रमित हो चुके हैं। वहीं समय रहते सही इलाज न मिल पाने के कारण वह लोगों की जान ले रहा है। यह बात डॉक्टर्स भी मान रहे हैं।

दरअसल कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर काफी खतरनाक साबित हो रही है। वजह यह है कि अब यह वायरस रेपिड एंटीजन टेस्ट के साथ साथ आरटी-पीसीआर जांच में भी नहीं दिख रहा है, जिससे रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद मरीज लापरवाह हो जाते हैं। लेकिन जब हालत ज्यादात बिगड़ती है तब तक बहुत देरी हो चुकी होती है। ऐसे में अब लोग कोविड टेस्ट की बजाए एचआर सीटी जांच पर ज्यादा भरोसा कर रहे हैं। हालांकि सिटी स्कोर बढ़ा हुआ आने के बाद भी सरकार उन्हें कोविड मरीज नहीं मानती है। लेकिन समय रहते इलाज शुरु हो जाने की वजह से उनकी जान बच जाती है। वर्तमान में जिला अस्पताल के अंदर कई ऐसे मरीज भर्ती हैं, जिनकी कोविड रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद सिटी स्कैन स्कोर काफी अधिक होने के कारण वे ऑक्सीजन पर हैं।

काेराेना जांच कराई तो निगेटिव आई, सीटी स्कैन में स्कोर 15 आया
लहार निवासी राकेश कुमार (40) पुत्र रामचरण इन दिनों जिला अस्पताल में भर्ती है। उन्हें बुखार के साथ साथ सांस लेने में भी तकलीफ है। कोरोना संक्रमण के संदेह में वे 24 अप्रैल को जिला अस्पताल आए। जहां उनकी कोविड जांच की गई, जिसमें रिपोर्ट निगेटिव आई। लेकिन जब उन्होंने सीटी स्कैन कराई तो उसमें स्कोर 15 आया। यानि उनके फेफड़ों में संक्रमण आया।

सांस लेने में दिक्कत आ रही थी फिर भी जांच रिपोर्ट निगेटिव आई
2. अटेर के दतावली निवासी राधेश्याम पाठक (62) पुत्र कैलाशनारायण पाठक करीब 10 दिन पहले बीमार हुए। उन्हें बुखार, सर्दी, खांसी जुकाम के साथ सांस लेने में काफी परेशानी हो रही थी। कोविड टेस्ट में उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई तो परिजन ने उनकी सीटी स्कैन जांच में उनका स्कोर 23 आया। तब उन्हें ऑक्सीजन पर रखा गया। जहां उनकी हालत स्थिर बनी हुई है।
फेंफड़ों में संक्रमण की वजह से ऑक्सीजन लगानी पड़ी
लहार के श्यामपुरा निवासी शिवकांत (60) पुत्र भगवान सिंह भी 27 अप्रैल से जिला अस्पताल में भर्ती है। उनकी भी कोविड टेस्ट में रिपोर्ट निगेटिव आई। लेकिन जब उनके परिजन ने फेफड़ों में काफी संक्रमण होने से उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है। उनका भी ऑक्सीजन सेचुरेशन काफी कम होने से उन्हें ऑक्सीजन पर रखा गया है, उन्हें लगतार ऑक्सीजन दी जा रही है।

अब वायरस सीधे लंग्स तक पहुंच रहा है

मेडिसिन स्पेशलिस्ट डॉ शैलेंद्र परिहार ने बताया कि वर्क प्रेशर की वजह से कई बार लैब टेक्नीशियन कोरोना मरीज का सैंपल ठीक से नहीं ले पाते हैं। ऐसे में पॉजिटिव मरीज की रिपोर्ट निगेटिव आ जाती है। वहीं एक कारण यह भी हो सकता है कि म्यूटेंट वायरस प्रवेश के बाद नाक या मुंह में ज्यादा देर न ठहरते हुए सीधे लंग्स तक पहुंच जाते हों, जब नाक या मुंह से सैंपल लेते हैं तो वहां नहीं मिलते हैं। सीटी स्कैन में पकड़ में आ जाते हैं।

एचआर सीटी जांचः थ्रीडी इमेज से बताती है संक्रमण
एचआर सीटी चेस्ट यानी सीने का हाई रिजोल्यूशन कंप्यूटराइज्ड टोमोग्राफी स्कैन। इस जांच के जरिए फेफड़ों की एक थ्रीडी इमेज बनती है जो बहुत बारीक डिटेल्स भी बताती है। इससे फेफड़ों में हुए इन्फेक्शन का पता चल जाता है। कोरोना का लक्षण दिखाई देने पर कुछ लोग आरटीपीसीआर न करवाकर सीधे सीटी स्कैन करवा रहे हैं। सिटी स्कैन में स्कोर 8-से कम है तो हल्का, 9-17 के बीच मध्यम और 17 से अधिक स्कोर होने पर गंभीर माना जाता है। पूरा 25 स्कोर का होता है। सीटी स्कैन में यदि 7 से ज्यादा स्कोर है तो उसे कोविड-19 मानकर चलना चाहिए। ऐसे मरीजों को अलग रखकर इलाज किया जाना चाहिए।
अब ज्यादा सावधानी रखें

  • डबल मास्क पहने, खासतौर पर तब जब घर से बाहर निकलें
  • सोशल डिस्टेंस की पालना करें, क्योंकि अब संक्रमितों में कोई लक्षण भी नहीं आ रहे।
  • सस्पेक्टेड कोरोना पेशेंट भी होम आइसोलेशन की पालना करें व एकांत में रहे
  • शुरुआती लक्षण दिखाई देने पर चिकित्सक की सलाह पर उपचार शुरू करे, खुद डाक्टर नहीं बने
  • चिकित्सक के सामने कोई बहानेबाजी (ठंडा पानी पी लिया, पसीने में पी लिया आदि) न बनाए, सही जानकारी दें।
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें