• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • Dengue Larvae Searched In Bhind 20 Thousand 984 Houses, Destroyed 14 Thousand 646 Places

डेंगू ने फैलाए पंख:भिंड में 20 हजार 984 घरों में तलाशा गया डेंगू का लार्वा, 14 हजार 646 जगह नष्ट कराया

भिंडएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।

भिंड जिले में डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। पिछले दो महीने से जिले में स्वास्थ्य विभाग की मलेरिया टीम गांव-गांव घर-घर पहुंचकर डेंगू के लार्वा की तलाश कर रही है। अब तक स्वास्थ्य विभाग की टीम 1779 गांव पहुंचकर सर्वे कर चुकी है। वहीं शहरी क्षेत्र के 32 वार्डों के अंदर घूम कर घर-घर पहुंच चुकी है। जिलेभर में 20 हजार 984 घरों का सर्वे किया जा चुका है। इन घरों में रखे कूलर, डिब्बे, टंकी आदि समेत 3 लाख 8 हजार 161 जगहों पर दवा डाली जा चुकी है। जिनमें टीम के सदस्यों को 14 हजार 646 जगह पर लार्वा मिला, जिसे स्वास्थ्य विभाग ने नष्ट कराया।

भिंड जिले में डेंगू का लार्वा लगातार मिल रहा है। डेंगू के प्रकोप को लेकर स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को सर्तक रहने को कहा गया है। डेंगू मच्छर का लार्वा रूके हुए पानी में मिल रहा है। 20 हजार से अधिक घरों होने वाले सर्वे के दौरान 9 हजार से घरों में 14 हजार 646 स्थानों पर डेंगू का लार्वा मिल पनपता हुआ मिला। इधर जिले में लगातार डेंगू पॉजिटिव की संख्या बढ़ती जा रही है। दो रोज पहले गोहद में एक महिला की मौत हुई जोकि डेंगू संदिग्ध होना बताई जा रही है। अब तक जिलेभर में डेंगू से हुई मौत की संख्या 3 हो चुकी है।

एक सप्ताह में 75 मरीज मिले

स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के मुताबिक पिछले एक सप्ताह से लगातार मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। एक सप्ताह में जिलेभर में 75 नए मरीजों की बढ़ने की पुष्टि हुई है। इस तरह से जिले में डेंगू की संख्या 200 से ज्याद हो चुकी है। जिला मलेरिया अफसर ने जिलेभर की निजी लैबों को पत्र लिखकर डेंगू की जांच कराने पर रिपोर्ट की सूचना प्रशासन को देने के निर्देश जारी किए है।

डेगू पीड़ित आस पास ज्यादा खतरा

जिला मलेरिया ऑफिसर डॉ डीके शर्मा के मुताबिक जिले में डेंगू के प्रकोप से बचने के लिए लगातार अभियान चलाया जा रहा है। जिले में अब तक सर्वे के दौरान 14 हजार 646 लार्वा नष्ट कराया जा चुका है। एक डेंगू का मच्छर दो सौ मीटर के आसपास एरिया में उड़ान भरता है। इसलिए सर्तक रहे। जहां भी डेंगू पीड़ित मरीज पाया जाता है उसके आस पास के लोग काे ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है।