पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आईएमए के आह्वान पर डाक्टरों ने मनाया विरोध दिवस:डॉक्टर बेहतर इलाज करते हैं, इनके साथ दुर्व्यवहार ठीक नहीं: डाॅ. सिंह

भिंडएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला अस्पताल में काली पट्टी बांधकर विरोध प्रकट करते डॉक्टर। - Dainik Bhaskar
जिला अस्पताल में काली पट्टी बांधकर विरोध प्रकट करते डॉक्टर।

डॉक्टर जीवनदाता हैं और अपने मरीजों का बेहतर इलाज करते है। लेकिन जीवन और मृत्यु ईश्वर के अधीन है। ऐसे में जब कभी लोगों द्वारा डाॅक्टर के साथ दुर्व्यवहार किया जाता है या मारपीट की जाती है तो इससे सभी डाक्टर का मनोबल गिरता है। इसके साथ ही नई पीढ़ी को यह संदेश जाता है कि चिकित्सा के पेशे में हमारा जीवन सुरक्षित नहीं है तो हमें डॉक्टर नहीं बनना है। यह बात इंडियन मेडिकल एसोसिएशन शाखा भिंड के अध्यक्ष डॉ. गुलाब सिंह ने कही।

डॉ. सिंह जिला चिकित्सालय परिसर में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के राष्ट्रीय नेतृत्व के आह्वान पर आयोजित विरोध दिवस पर चिकित्सकों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हमारी मुख्य रूप से चार मांगे हैं। इनमें केंद्रीय कानून बनाया जाए जो चिकित्सकों एवं स्वास्थ्य कर्मियों को सुरक्षा प्रदान करें। जिसमें आईपीसी और सीआरपीसी की धाराएं भी शामिल की जाए। प्रत्येक अस्पताल में चिकित्सकों की सुरक्षा मानदंडों का एक स्टैंडर्ड बनाया जाए ताकि सुरक्षा सुनिश्चित हो सके।

प्रत्येक अस्पताल को सुरक्षित जोन घोषित किया जाए जिसमें किसी भी प्रकार की हिंसा या दुर्व्यवहार असहनीय हो। चिकित्सकों से मारपीट करने वाले मुजरिमों की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई की जाए। जिससे तुरंत निर्णय हो सके। इस मौके पर डॉ विनोद सक्सेना, सीएस डॉ अनिल गोयल, डॉ यू पी एस कुशवाह, डॉ विनोद वाजपेयी, डॉ आर के मिश्रा, डॉ शैलेन्द्र परिहार, डॉ प्रतीक मिश्रा, डॉ प्रभात उपाध्याय, डॉ हिमांशु बंसल उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...