• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • For The First Time In Bhind, The Victims Of The Arbitrary Interest Of The Usurers Will Be Heard By Setting Up A Police Camp

ब्याज खोरों पर चलेगा पुलिस का डंडा:भिंड में पहली बार सूदखोरों के मनमाने ब्याज से पीड़ितों की पुलिस कैंप लगाकर करेगी सुनवाई

भिंडएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक

मध्य प्रदेश सरकार ने सूदखाेरों के खिलाफ सख्त कानून बनाया है। इसके बाद पहली बार भिंड जिले में पुलिस प्रशासन सूदखोरों से पीड़ितों की सुनवाई करेगी। इसके लिए शिविर 15 दिसंबर को जिलेभर में लगाए जा रहे है। यह शिविर हर ब्लॉक में लगेंगे। इसके लिए पूरी तैयारी कर ली गई है। जिले से लेकर ब्लॉक व तहसील स्तर पर मुनादी कराई जा रही है।

बिना लाइसेंस के ब्याज का धंधा करके मनमाफिक वसूली करने वालों पर अब पुलिस का डंडा चलेगा। ऐसे ब्याज खोरों से जरूरत के मुताबिक पैसा लेकर मूल रकम से ज्यादा ब्याज देने वालों से पुलिस मुक्ति दिलाएगी। पुलिस मुख्यालय भोपाल द्वारा पूरे प्रदेश में सूदखोरों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। इसी अभियान के तहत भिंड जिले की पुलिस ने भी पहल की है। इस पहल के तहत भिंड, अटेर, लहार, गोहद, मौ, मेहगांव समेत सभी पुलिस अनुविभाग पर शिविर लगाए जाएंगे। इन शिविरों में ब्याज के कर्ज से पीड़ितों की सुनवाई होगी।

लॉकडाउन में बढ़ा सूदखोरी का धंधा

जिले में ब्याज का धंधा बड़े पैमाने पर फल-फूल रहा है। यहां सूदखोर लोगों की मजबूरी का फायदा उठाकर डायरी सिस्टम व पांच, दस और बीस प्रतिशत तक का ब्याज वसूल कर रहे हैं। इसके लिए वे बाकायदा रुपए उधार लेने वाले से चेक व प्रामेसरी नोट बना लेते हैं। इसके आधार पर ब्याज नहीं भरने की स्थिति में कानून का फायदा उठाकर संबंधित को परेशान करते हैं। यह ब्याज छिमाही पर चलता है। छह महीने में ब्याज की रकम न देने पर मूल रकम में जोड़कर ब्याज वसूलते है। इसके चलते कई गरीब किसानों को खेती बाड़ी, मकान, दुकान बेचकर ब्याज का पैसा भरने को मजबूर होते है। ब्याज न देने पर लठौतों की दम पर ब्याज वसूला जाता है।

पूरे जिले में लगेंगे शिविर

सूदखाेरों को लेकर लगाए जा रहे शिविर को लेकर एएसपी कमलेश खरपुसे का कहना है कि यह शिविर पूरे जिले में एक साथ लगाया जा रहा है। शिविर के माध्यम से ब्याज से पीड़ित पक्ष की सुनवाई होगी। इसके बाद न्यायोचित कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...