• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • GST Officers Raided Vishwas Traders Firm In Lahar Town Of Bhind, Action Lasted For 6 Hours

भोपाल से आए GST अफसर:भिंड के लहार कस्बा में विश्वास ट्रेडर्स फर्म पर GST अफसरों ने मारा छापा, 6 घंटे चली कार्रवाई

भिंड2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।

भिंड जिले के लहार कस्बे में एक व्यापारी की फर्म पर जीएसटी अफसरों ने भोपाल से आकर छापामार कार्रवाई चली। यह कार्रवाई की भनक भी नहीं लगने दी। जीएसटी अफसरों की टीम लहार के दूसरे व्यापारियों को पता चली वे अपनी दुकानों पर ताला लटका कर चले गए।

लहार कस्बे में जनपद पंचायत ऑफिस के पास विश्वास ट्रेडर्स के संचालक सीताराम अग्रवाल मंगलवार की सुबह करीब 11 बजे अपनी फर्म की शटर उठाकर बैठे थे। वे लक्ष्मी जी के सामने पूजा-अर्चना कर अच्छी ग्राहकी की कामना से अगरबत्ती लगा रहे थे, तभी एक फोर व्हीलर वाहन आकर रूका उसमें से तीन से चार व्यक्ति आए और उन्होंने फर्म के संचालक को तलाशा। अगरबत्ती लगाकर अच्छी ग्राहकी का इंतजार कर रहे सीताराम ने स्वयं को मालिक बताया। इसके बाद जैसे ही जीएसटी टीम के अफसरों ने अपना परिचय दिया ताे अग्रवाल के चेहरे की हवाइयां उड़ गई। उन्होंने एक-एक करके कागजी दस्तावेज को मांगना शुरू किया। इस पर फर्म संचालक टालामटोली करने लगे। टीम के सदस्य शाम सात बजे तक फर्म पर जमा रहे। उन्होंने एक-एक करके कामकाज संबंधी दस्तावेजों को देखा। माल की आवक और जावक संबंधी बहीखाता खंगाला। माल की बिलटी व ऑरीजिनल रशीद को देखा। इस दौरान कई महत्वपूर्ण दस्तावेज अपने साथ लेकर रवाना हुए।

दो दर्जन ग्राम पंचायतों में करते हैं माल सप्लाई

जानकारी के मुताबिक विश्वास ट्रेडर्स की जनपद पंचायत में अच्छी पकड़ है। विश्वास ट्रेडर्स द्वारा रेत, गिट्‌टी, सरिया, सीमेंट जैसा मटेरियल सप्लाई किया जाता है। बताया जाता है कि फर्म संचालक अधिकारियों से सेंटिंग करके माल की सप्लाई दो दर्जन से ज्यादा पंचायतों में करते है। जिन पंचायतों में कम न होने और पैस निकलने की शिकायतें हुई है। ऐसी पंचायतों में भी माल सप्लाई किए जाने की जानकारी जिले के कई अफसरों के पास मिली थी। जीएसटी अफसरों के पास इस बात की पुख्ता खबर थी कि बिना माल सप्लाई हुए फर्जी बिल तैयार किए जाते हैं। फर्म संचालक जीएसटी चोर करता है। इन अनियमितताओं की जानकारी पर स्पेशल जीएसटी की टीम भोपाल से आई थी। जीएसटी अफसरों द्वारा चेक किए गए दस्तावेजों और जनपद पंचायत द्वारा किए गए भुगतान का मिलान करेंगे। इस दौरान मिलान न होने पर बड़ी कार्रवाई होने की बात कही जा रही है।