पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जनपद सीईओ को पीटने का है आरोप:पंचायत समन्वय अधिकारी का अब शस्त्र लाइसेंस भी निलंबित

भिंड13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

लहार जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आलोक प्रताप इटौरिया की मारपीट करने वाले पंचायत समन्वय अधिकारी रमाकांत उपाध्याय का शस्त्र लाइसेंस कलेक्टर डॉ सतीश कुमार एस ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। वहीं वे खुद पहले से निलंबित चल रहे हैं। बता दें कि 31 अगस्त की शाम सवा चार बजे जब लहार सीईओ इटौरिया अपने चैंबर में बैठकर कार्यालयीन कार्य कर रहे थे। तभी पंचायत समन्वय अधिकारी रमाकांत उपाध्याय आए और बरहा गांव के बाढ़ पीडितों की सूची पर जबरन हस्ताक्षर कराने लगे। जब उन्होंने मना किया तो उपाध्याय ने अभद्रता करते हुए उन्हें जातिगत अपमानित किया।

इसके उपरांत करीब 10 मिनट बाद उपाध्याय अपने बेटे अनुज और अनूप के अलावा दो अज्ञात लोगों के साथ उनकी मारपीट कर दी और उनका मोबाइल फोन तोड़कर जान से मारने की धमकी दे डाली। वहीं इस घटना के बाद लहार पुलिस ने पंचायत समन्वय अधिकारी उपाध्याय और उनके बेटों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया था।

साथ ही जब मामले की जानकारी कलेक्टर डॉ सतीश कुमार एस तक पहुंची तो उन्होंने पंचायत समन्वय अधिकारी उपाध्याय को दूसरे दिन एक सितंबर, बुधवार को निलंबित कर दिया था। इसके बाद लहार सीईओ इटौरिया ने कलेक्टर को 3 सितंबर को प्रतिवेदन भेजा था कि उपाध्याय अपनी लाइसेंसी बंदूक लेकर घूम रहे हैं। जो कभी कोई घटना कारित कर सकते हैं। ऐसे में कलेक्टर ने उनका शस्त्र लाइसेंस भी निलंबित कर दिया है।

खबरें और भी हैं...