फटे ग्लव्ज से काम करने को मजबूर कर्मचारी:जान जोखिम में डालकर बिना सुरक्षा उपकरण के काम कर रहे आउटसोर्स के बिजली कर्मचारी

भिंड7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बिना सुरक्षा उपकरण के बिजली कर्मचारी (आउटसोर्सिंग लाइनमैन) अपनी जान जोखिम में डालकर फाॅल्ट, मरम्मत आदि सुधार कार्य करने में लगे हुए हैं। इसमें हर पल उनकी जान जाने का अंदेशा बना रहता है। बिजली कंपनी अधिकारियों की नजर में भी यह सब है, लेकिन वह अपने ही कर्मचारियों के प्रति लापरवाही बरतने से बाज नहीं आ रहे हैं। वहीं कर्मचारियों के पास सुरक्षा उपकरण नहीं होने से उनमें अधिकारियों के प्रति आक्रोश पनप रहा है।

गौरतलब है कि शहर के बिजली कंपनी कार्यालय वाटर वर्क्स में आउटसोर्सिंग 16लाइनमैन पदस्थ हैं। वर्तमान में किसी भी लाइनमैन के पास सुरक्षा उपकरण नहीं हैं, जो उपकरण हैं भी तो वे अब किसी काम के नहीं बचे हैं।

लांग ग्लव्स फट चुके हैं
लाइनमैन बताते हैं कि लाइन में छोटा सुधार हो या बड़ा कार्य सुरक्षा उपकरणों का इस्तेमाल करना अनिवार्य होता है। बिजली सुधार करते समय प्रत्येक बिजली कर्मचारी के पास हाथों में पहनने वाले नायलोन के लांग ग्लव्स,लांग बूट,हेलमेट, कैप,टैस्टर, टॉर्च,झूला, सीढ़ी और सूती कपड़े पहनना जरूरी है। मगर हमारे पास यह सामान नहीं हैं। हमारे पास वर्तमान में जो ग्लव्स हैं वे फट चुके हैं। सुरक्षा उपकरण की मांग हम लोग कई महीनों से विभागीय अधिकारियों से कर चुके हैं। लेकिन अधिकारी हमारी मांग पर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

4 माह पहले दिया सामान
"कर्मचारियों को विभाग की ओर से चार महीने पहले ग्लव्स सहित अन्य सुरक्षा उपकरण दिए गए थे। मैं पता करवाता हूं कि वह सुरक्षा उपकरण कहां गए।"
-शुभम चौधरी, डीई, बिजली कंपनी

खबरें और भी हैं...