• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • Rescue Of 8 Feet Long, Weighing A Quintal Crocodile Lasted For Two Hours, Left At Musawali Ghat In Sindh

मगरमच्छ के सामने आई JCB, देखें VIDEO:जबड़ा खोलकर अड़ गया 8 फीट लंबा और एक क्विंटल वजनी मगरमच्छ; दो घंटे बाद नदी में छोड़ा

भिंड23 दिन पहले

भिंड में सिंध नदी में आई बाढ़ ग्रामीणों के लिए आफत बनी हुई है। नदी में बाढ़ के पानी के साथ मगरमच्छ बढ़ी तादाद में आ चुके हैं। शुक्रवार की दोपहर नदी से 2 KM दूर एक मगरमच्छ रेंगता हुआ रहवासी इलाके के पास आ गया। मगरमच्छ को देख लोगों में दहशत फैल गई। पुलिस और वन रक्षक JCB लेकर रेस्क्यू करने पहुंचे थे, इस दौरान मगरमच्छ जबड़े फैलाकर जेसीबी के सामने अड़ गया। करीब एक क्विंटल वजनी और आठ फीट लंबे मगरमच्छ को दो घंटे बाद जेसीबी के पंजे से उठाकर सिंध नदी में छोड़ा गया।

मगरमच्छ को देख गांव वालों में हड़कंप मच गया। ग्रामीणों ने यह सूचना पुलिस थाने में दी। वन विभाग की रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंच गई। वन विभाग की टीम ने मगरमच्छ को रस्सी से बांधने का प्रयास किया, लेकिन जब मगरमच्छ पर कंट्रोल नहीं किया जा सका तो वनकर्मियों ने हाथ खड़े कर दिए। इसके बाद JCB में मगरमच्छ को रखा और रेस्क्यू कर नदी में छुड़वाया।

गौरतलब है कि 3 अगस्त को सिंध नदी में शिवपुरी के पास स्थित मनीखेड़ा बांध का पानी छोड़े जाने से बाढ़ आई थी। बाढ़ ने जिले के कई गांव को तबाह कर दिया था। इन ग्रामीणों की जिंदगी अब तक पटरी पर नहीं लौटी है। अब नदी के किनारे के ग्रामीणों के मन में मगरमच्छ की दहशत फैल गई।

जेसीबी से मगरमच्छ का रेस्क्यू किया गया।
जेसीबी से मगरमच्छ का रेस्क्यू किया गया।

ऐसे चला रेस्क्यू
मगरमच्छ का रेस्क्यू करने पहुंचे वन कर्मी अप्रशिक्षित थे। वन कर्मी अपने साथ मगरमच्छ जैसे घातक जीव का रेस्क्यू करने बिना किसी उपकरण के साथ पहुंचे। जब उन्होंने रेस्क्यू करने में असमर्थता जताई तो थाना प्रभारी सतेंद्र सिंह ने गांव से JCB बुलवाई।

मगरमच्छ के आसपास चार-पांच पुलिस जवान व तीन-चार वन विभाग के कर्मचारी थे। सभी ने अपने हाथों में लाठियां थाम रखी थीं। JCB का पंजा जैसे ही मगरमच्छ की ओर बढ़ा वैसे ही वह आक्रामक हो गया। मगरमच्छ उस पर टूट पड़ा। मगरमच्छ ने दो से तीन बार हमला किया। इसी दौरान वन कर्मी और पुलिस जवानों ने लाठी की सहायता से उसे जेसीबी के पंजे में पलट दिया।

बाढ़ के साथ आया मगरमच्छ
थाना प्रभारी सतेंद्र सिंह का कहना है कि सिंध नदी में बाढ़ के साथ मगरमच्छ आए हैं। यह मगरमच्छ नदी से दो किलोमीटर दूर कैसे पहुंचा, यह कह पाना मुश्किल है। मगरमच्छ का रेस्क्यू कराकर नदी में छुड़वा दिया गया।

खबरें और भी हैं...