पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • Stretchers In Hospitals Patients Not Getting Even Wheelchairs, Forced To Walk With Staggering Steps

लहार सिविल अस्पताल की आंखों-देखी:नर्सों की हड़ताल से बिगड़ी अस्पतालों में व्यवस्था, स्ट्रेचर-व्हीलचेयर तक नहीं मिल रहे

भिंड23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चलने में असमर्थ पेशेंट कैलाश को परिजन ले जाते हुए, इनके लाख प्रयास के बाद भी व्हीलचेयर नहीं मिली - Dainik Bhaskar
चलने में असमर्थ पेशेंट कैलाश को परिजन ले जाते हुए, इनके लाख प्रयास के बाद भी व्हीलचेयर नहीं मिली

प्रदेश व्यापी हड़ताल से भिंड जिले के सिविल हॉस्पिटल की व्यवस्थाएं खराब हो रही हैं। हालात यह है सीरियस मरीजों को व्हीलचेयर और स्ट्रेचर नहीं मिल रहे हैं। वे परिजन के सहारे चलकर आने को मजबूर हैं। हालांकि अस्पताल प्रबंधन व्यवस्था सुदृढ़ होने का दावा कर रहा है।

जिले के सिविल अस्पताल, लहार की रियल्टी जांचने के लिए बुधवार दोपहर दैनिक भास्कर टीम पहुंची। यहां अस्पताल के गेट पर नर्स बैठी मिलीं। सिविल अस्पताल में 11 नर्स हैं, जिसमें छह संविदा नियुक्ति पर है। यहां संविदा और एएनएम के भरोसे मरीजों का उपचार किया जा रहा है। ट्रेंड नर्स हडताल पर चलने से अव्यवस्था बनी है।

यहां 70 वर्षीय बुजुर्ग कैलाश बिजासन रोड से आए थे। बुजुर्ग मरीज इंफेक्शन का शिकार है। उसका उपचार लेने लिए परिवार के दो युवकों लड़खड़ाते कदमों के साथ लेकर पहुंचा। जब यहां मौजूद स्टाफ से स्ट्रेचर व व्हील चेयर को लेकर सवाल किया गया, तब मौजूदा स्टाफ सकपका गया। मरीज को बैठाया और बोला-व्हीलचेयर को लेकर, सर से पूछो।

अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर बैठीं नर्सें, जिस कारण अस्पताल में व्यवस्थाएं बिगड़ती जा रही हैं
अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर बैठीं नर्सें, जिस कारण अस्पताल में व्यवस्थाएं बिगड़ती जा रही हैं

एएनएम करा रही प्रसव

नर्सों की हड़ताल का असर मुख्य तौर पर प्रसूता वार्ड पर पड़ा। यहां रोजाना गर्भवती महिलाएं प्रसव के लिए आती हैं। नर्सों के हड़ताल पर होने से एएनएम को यह दायित्व हॉस्पिटल प्रबंधन ने सौंपा है। ऐसे में जच्चा और बच्चा के स्वास्थ्य को लेकर परिजन आशंकित रह रहे हैं।

कोई नहीं सुनने वाला

अस्पताल में उपचार के लिए आने वाले अटेंडर संदीप का कहना है कि नर्स हड़ताल पर है। चिकित्सक समय पर बैठते है लेकिन पैरा मेडिकल स्टाफ अनुपस्थित होने से कोई सुनवाई नही हो रही।

व्हीलचेयर मांगने पर देते हैं

बीएमओ डॉ. शैलेन्द्र पांडेय का कहना है कि व्हीलचेयर और स्ट्रेचर को मांगने पर दिया जाता है। बाहर रखने पर धूप से गर्म हो जाते है। नर्सो की हड़ताल से कुछ व्यवधान आया है। एएनएम व संविदा स्टाफ से 10 से 12 घंटे काम कराया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...