पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • The Police Of 27 Police Stations Of Bhind District Will Not Be Able To Get Hold, If You Have The Strength Then Show It, This Is My Location And The Police Will Be Caught And Sent To Jail.

डॉन बनने चला था जेल पहुंच गया:महिला DSP को 20 से 25 कॉल और मैसेज करके लोकेशन भेजी, कहता- मेरा इंतजार 27 थानों की पुलिस कर रही है, मुझे पकड़ना नामुमकिन है

पवन दीक्षित/भिंडएक महीने पहले
प्रेमिका को धोखा देकर दुष्कर्म के आरोपी ने दूसरी युवती से सगाई की रस्म की थी पूरी।

भिंड में दुष्कर्म के आरोपी ने डॉन फिल्म के तर्ज पर पुलिस को चैलेंज कर रहा था। वह कहता, मैं डॉन हूं। मेरा इंतजार 27 थानों की पुलिस कर रही है। मुझे पकड़ना मुमकिन नहीं, नामुमकिन है। उसने डेढ़ महीने में महिला सेल की DSP पूनम थापा को ऐसे ही 20 से 25 मैसेज और फोन करके अपनी लोकेशन भेजकर पकड़ने की चुनौती दी। आखिरकार उसे पूनम थापा ने पकड़ ही लिया और जेल भेज दिया।

गोहद क्षेत्र बिरखड़ी के रहने वाला रवि गुर्जर पुत्र शिव सिंह गुर्जर की चतुर्वेदी नगर में रहने वाली युवती से सोशल मीडिया के माध्यम से दोस्ती हुई थी। आरोपी ने युवती को प्रेम के जाल में फंसाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। आरोपी ने युवती को शादी का झांसा दिया। आरोपी दूसरी युवती से शादी करने लगा। इसके बाद युवती व परिवार के लोगों ने दबाव बनाना शुरू किया। इसके बाद आरोपी ने परिवार के लोगों को जान से मारने की धमकी दी। डेढ़ माह पहले युवती ने थाने में शिकायत की। उसने कट्‌टा दिखाकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया। पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी को पकड़ने के लिए दबिश दी, तो आरोपी भाग गया। इसके बाद फिल्मी स्टाइल में कॉल करके चुनौती देने लगा।

पुलिस देती दबिश, तुरंत आ जाता आरोपी का कॉल
एसपी मनोज कुमार सिंह ने मामले को महिला सेल की डीएसपी पूनम थापा को सौंपा। आरोपी का ग्वालियर के पिंटो पार्क में भी मकान है। यहां उसके परिवार वाले रहते थे। पुलिस ने कई बार उसके गांव व ग्वालियर में दबिश दी। पुलिस जैसे ही उसके घर पहुंचती, तो आरोपी वॉट्सऐस कॉल करता। कहता- मेरे घर पर पहुंच गई। आपके साथी घर के गेट में लात मार रहे थे। आरोपी ने पुलिसकर्मियों को भी जान से मारने की धमकी दे डाली।

भारत छोड़कर जा रहा हूं, घर वालों से लेना-देना नहीं
पुलिस ने आरोपी पर दबाव बनाने के लिए उसके परिवार के लोगों को उठा लिया। फिर आरोपी ने डीएसपी से कॉल कर कहा कि मेरे पापा और चाचा को उठा लाई हैं मैडम। मैंने वीजा, पासपोर्ट तैयार करा लिया। अपने हिस्से की जमीन का सौदा भी कर दिया। बस, कुछ ही दिनों में भारत छोड़कर जा रहा हूं। तुम पकड़ सकती हो तो पकड़ लो…। मुझे घरवालों से लेना-देना भी नहीं।

राहगीरों के मोबाइल लेकर वॉट्सऐप कर लेता था डाउनलोड
आरोपी रवि इतना शातिर है, पुलिस को चकमा देने के लिए कभी खुद के वाट्सऐप नंबर से बात नहीं करता था। वह ऐसे राहगीर से मोबाइल लेता, जो कीपैड मोबाइल चला रहा हो। वह राहगीर से मोबाइल यह कह कर मांग लेता कि उसका मोबाइल से फोन नहीं लग रहा है। अपनेे फोन में वाॅट्सऐप डाउनलोड करता और राहगीर का मोबाइल नंबर डालता। इसके बाद ओटीपी लेकर वाॅट्सऐप चालू कर लेता और मोबाइल लौटा देता। जब पुलिस मोबाइल नंबर ट्रेस करती, तो आरोपी कहीं से बोलता और मोबाइल धारक दूसरी जगह होता था। मोबाइल धारक को भनक भी नहीं होती कि उसका नंबरे पर वाट‌सऐप कोई बदमाश यूज कर रहा है।

ऐसे पकड़ाया... ड्राइवर ने दिया सही नंबर
आरोपी पर तीन हजार रुपए का इनाम भी घोषित है। पुलिस के मुताबिक रवि सिंध नदी की बीहड़ में रह रहा था। वह रेत माफियाओं के संपर्क में भी था। पुलिस को उसकी लोकेशन अमायन थाना क्षेत्र में मिली। पुलिस ने उसके बैंक अकाउंट को लॉक कर दिए। अब आरोपी के पास आय का एक ही साधन बचा था, उसकी बोलेरो कार। उसके ये कार रेत माफियाओं को किराए पर दे दी थी। पुलिस ने उसकी बोलेरो को ड्राइवर समेत पकड़ लिया। उसने आरोपी का सही मोबाइल नंबर दिया। इसके बाद उस नंबर को ट्रैक कर पुलिस ने रवि को गिरफ्तार कर लिया।

खबरें और भी हैं...