पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वैक्सीन से बचने के बहाने:युवक बोला- हमें कोराेना नहीं हो सकता, महिला ने कहा- टीका लगने से कई की मौत हुई

भिंडएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भिंड शहर के व्यापार मंडल धर्मशाला में वैक्सीन लगवाती युवती। - Dainik Bhaskar
भिंड शहर के व्यापार मंडल धर्मशाला में वैक्सीन लगवाती युवती।
  • अब तक 20.4 फीसदी लोगों ने लगवाई वैक्सीन
  • महाअभियान में पहले दिन 15 हजार लोगों काे 81 केंद्रों पर टीका लगाने का रखा लक्ष्य

जानलेवा कोरोना संक्रमण से बचाव का एकमात्र विकल्प वैक्सीन है। इसके बाद भी जिले में अब तक लक्ष्य के विरुद्ध 20.4 फीसदी लोगाें काे ही टीका लगाया जा सका है। शहरी और ग्रामीण अंचल में लोग वैक्सीन लगवाने से बचने के लिए तरह-तरह की बहानेबाजी करने में लगे हैं।

भिंड के लश्कर रोड निवासी युवा का कहना है कि हमें कोरोना हो ही नहीं सकता। वहीं मौ के लुहारपुरा निवासी महिला ने यहां तक कह दिया कि वैक्सीन लगने के बाद कुछ लोगों की मौत हो गई है। यह बहाने भास्कर के पूछने पर लोगों ने बनाए हैं, हालांकि शासन की ओर से शत-प्रतिशत टीकाकरण कराने के लिए महाअभियान शुरू किया जा रहा है ताकि तीसरी लहर काे राेका जा सके।

बता दें कि सबसे पहले हेल्थ केयर वर्कर और फ्रंटलाइन वर्कर का टीकाकरण किया गया। इनकाे पहला डाेज लगवाने का प्रतिशत क्रमश: 91.6 और 93.2 रहा था लेकिन 95.6 प्रतिशत हेल्थ केयर वर्कर और 91.8 प्रतिशत फ्रंट लाइन वर्कर ने दूसरा टीका लगवाया। इनके बाद 60 साल से अधिक आयु के लोग टीका लगवाने में आगे रहे हैं। अब तक 75 हजार 71 लोग टीका लगवा चुके हैं। इस वर्ग के 50 प्रतिशत लोग टीका लगवा चुके हैं। 18 से 44 साल आयु वर्ग के लोगों में टीका लगवाने के लिए उत्साह तो है लेकिन अब तक इनके टीकाकरण का प्रतिशत 10.36 फीसदी ही रहा है। जिले में इस आयु वर्ग के 6 लाख 50 हजार लोगों को टीका लगना है। इनमें से 67 हजार 358 को ही टीका लग सका है।

45 से 59 साल के 2 लाख 50 हजार लोगों में 71 हजार 739 को टीका लगा है।वैक्सीनेशन के लिए 21 से 30 जून तक महाअभियान चलाया जा रहा है। इसमें हर आयु वर्ग के लोगों को टीका लगाया जाएगा। इसके पहले रोज 15 हजार टीके लगाए जाने का लक्ष्य है। इसके बाद मंगलवार और रविवार को छोड़कर प्रतिदिन 10 हजार 200 टीके लगाए जाएंगे। शत प्रतशित लक्ष्य हासिल करने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा कार्ययोजना का अंतिम रूप दिया जा रहा है।

खुद लगवाया टीका तब दूसरों को किया प्रोत्साहित गांव में 95% टीकाकरण

मानहड़ ग्राम पंचायत के सचिव भूपेंद्र सिंह ने वैक्सीनेशन कराने के लिए पहले खुद टीका लगवाया। गांव में टमटम से मुनादी कराई। लोगों से कहा कि हमने टीका लगवाया, हम ठीक हैं, आप भी लगवा लो। सरकार टीका मुफ्त में लगवा रही है। बाद में इसके लिए पैसा भी लग सकता है। यह बात लोगों की समझ में आई और इस प्रकार से गांव में 95 फीसदी टीकाकरण हो गया। 21 जून से शुरू हो रहे महाअभियान में भी प्रेरक बनाए जा रहे हैं। प्रेरक वैक्सीन लगवाने वालों के अलावा धर्मगुरु, समाजसेवी, जन प्रतिनिधि आदि कोई भी हो सकता है। वहीं टीकाकरण महा अभियान की मॉनीटरिंग के लिए महिला बाल विकास, स्वास्थ्य, राजस्व, पंचायत विभाग के अधिकारी तैनात किए जा रहे हैं जो अभियान को सफल बनाने का काम करेंगे।

खबरें और भी हैं...