पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • There Are No Words In The Dictionary For Teachers And Parents That Have The Power To Express Gratitude.

शिक्षक दिवस:गुरु व माता-पिता के लिए शब्दकोश में शब्द ही नहीं जो कि कृतज्ञता व्यक्त करने की सामर्थ्य रखता हो

भिंड14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रावतपुरा संस्थान में शिक्षक का सम्मान करते हुए छात्र । - Dainik Bhaskar
रावतपुरा संस्थान में शिक्षक का सम्मान करते हुए छात्र ।
  • स्कूलों में हुए कार्यक्रमों में डाॅ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जीवन पर प्रकाश डाला गया

अंचल में सोमवार को शिक्षक दिवस पर स्कूलों में कार्यक्रम का आयोजन किया। इसमें शिक्षकों ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया और पूर्व राष्ट्रपति डाॅ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जीवन पर प्रकाश डाला गया, साथ ही शिक्षा विभाग और प्रशासनिक अधिकारियों ने स्कूली शिक्षकों का सम्मान करते हुए उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त की गई।

रौनः 50 शिक्षकों का सम्मान
रौन के एसजीएस पब्लिक स्कूल में शिक्षक दिवस पर 50 शिक्षकों को शॉल-श्रीफल देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर शिक्षक अखिलेश शर्मा ने कहा कि पांच सितंबर, मेरे जीवन का अत्यंत महत्वपूर्ण दिन, ये ऐसा दिन है, जब कि हम अपने गुरु श्रेष्ठ के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित कर सकते हैं। यद्यपि गुरु, माता और पिता के लिए संसार के किसी शब्दकोश में ऐसा कोई शब्द नहीं जो कि कृतज्ञता व्यक्त करने की सामर्थ्य रखता हो, लेकिन फिर भी हर शिष्य आज के दिन अपने टूटे -फूटे आधे अधूरे शब्दों से यह कोशिश अवश्य करता है कि वह अपने गुरु श्रेष्ठ को अपने भावसुमन अर्पित करे। वास्तव में शिक्षक एक पेशा नहीं, एक दायित्व है, किसी भी व्यक्ति के लिए एक अवसर है, कि वह अपने ज्ञान, अपनी दृष्टि, अपने विचार, अपने आचरण से अपने सपनों का संसार रचे। इस मौके पर पूर्व बीईओ जयनारायण त्रिपाठी, छोटे सिंह कुशवाह, पूर्व प्राचार्य अखिलेश गुप्ता, जानकी समाधिया, रामबहादुर सिंह, डॉरेक्टर उमेश आचार्य, प्रभारी प्राचार्य कुलदीप दीक्षित, दशरथ कौरव, कवि महेंद्र मिहोनवी आदि मौजूद रहे।

लहारः शिक्षा में भारत का इतिहास विश्व गुरु का रहा है
लहर नगर में सोमवार को एसडीएम कार्यालय परिसर में शिक्षक दिवस पर आयोजित किए गए कार्यक्रम के तहत शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले शिक्षकों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर एसडीएम आरए प्रजापति ने कहा कि शिक्षा में भारत का इतिहास विश्व गुरु का रहा है। आजादी के74 साल बाद हमने शिक्षा में अभूतपूर्व प्रगति की है। इसमें शिक्षकों की भूमिका महत्ती है। एक छात्र को सदैव अपने गुरु का सम्मान करना चाहिए, क्योंकि गुरु ही वह होता है जो अच्छे और बुरे के बीच का अंतर बताता है। भारतीय संस्कृति में गुरु का स्थान सबसे ऊंचा बताया गया है। छात्र के लिए गुरु प्रथम पूज्य होते हैं। क्योंकि वे ही जीवन में हर समय शिष्यों को सही राहत बताते रहते हैं। इस मौके पर बीईओ एवं बीआरसीसी शैलेंद्र सिंह कुशवाह, रौन बीईओ करन सिंह कुशवाह,रौन बीआरसी पीएस तोमर, मुख्य नगरपालिका अधिकारी लहार रमेश सगर, तहसीलदार नवीन भारद्वाज, थाना प्रभारी कुशल भदौरिया आदि मौजूद रहे।

अकोड़ाः शिक्षक दिवस पर वृक्ष दान कर पुण्य के भागी बनें
वसुंधरा श्रृंगार युवा मंडल के वरिष्ठ सदस्य श्रीहरे कृष्ण शर्मा आजाद के नेतृत्व में शिक्षक दिवस पर मंडल के सदस्यों ने समाजसेवी और शिक्षक सर्वेश समाधिया के जन्मदिन पर नक्षत्र वाटिका में 21 पौधे रोपे। साथ ही शिक्षक सर्वेश समाधिया का सम्मान किया। इस मौके पर शिक्षक समाधिया ने कहा किहमारे शास्त्रों में वृक्ष दान का भी बड़ा महत्व बताया गया है। हमारे जीवन में बरगद, पीपल जैसे देव वृक्ष वरदान से कम नहीं है। इस मौके पर धर्मवीर यादव, संजय, दीपक मिश्रा, रविंद्र श्रीवास, सत्यमआदि मौजूद रहे।

दबोहः शिक्षक समाज हित में हमेशा काम करते रहते हैं
श्रीरावतपुरा सरकार लोक कल्याण ट्रस्ट द्वारा संचालित श्रीरावतपुरा सरकार शिक्षण संस्थान रावतपुरा धाम में शिक्षक दिवस कार्यक्रम के तहत शिक्षकों को शॉल-श्रीफल देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मुख्य प्रशासनिक अधिकारी श्री शशिभूषण त्रिपाठी ने कहा कि शिक्षक ही छात्र को बेहतर बनाकर देश हित और समाज में बेहतर काम करने वाला बनाता है। इस दौरान उन्होंने छात्रों एवं स्टाफ को शिक्षक के कर्तव्यों तथा परम पूज्य महाराज के मिशन के बारे में अवगत कराया। इस मौके पर शिक्षक, छात्र सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...