पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • This Time More Infection In The Village Because Instead Of Corona Examination, Rely On Fake Doctors Treatment

ऐसे डॉक्टरों से बचना:इस बार गांव में संक्रमण ज्यादा क्योंकि कोरोना जांच के बजाय फर्जी डॉक्टरों के इलाज के भरोसे

भिंडएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह हैं समाज के दुश्मन... खुद संक्रमित फिर भी कर  रहे थे इलाज। - Dainik Bhaskar
यह हैं समाज के दुश्मन... खुद संक्रमित फिर भी कर रहे थे इलाज।
  • जिले के 430 फर्जी डाॅक्टर किए चिह्नित, कोरोना जांच के लिए भेजे जा रहे नोटिस

कोरोना संक्रमण दूसरी लहर में गांवों तक बहुत तेजी से फैल रहा है। शुक्रवार को ऊमरी पुलिस ने 11 ऐसे झोलाछाप डॉक्टरों की कोरोना जांच कराई जो अपने क्लीनिक पर मरीज देख रहे थे। इनमें से तीन कोरोना संक्रमित मिले हैं। इन तीनों के क्लीनिकों को सील कर दिया गया है। लेकिन चिंता इस बात की है कि जिन मरीजों ने इन संक्रमित झोलाछापों से इलाज कराया, अब उनकी तलाश स्वास्थ्य विभाग को है।

इसके बाद पुलिस अधीक्षक ने जिले के सभी झोलाछाप डॉक्टरों को कोरोना जांच के लिए थानों के माध्यम से चिंहित किया है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग इस पूरे मामले में चुप्पी साधे हुए है। झोलाछाप डाक्टरों पर नियंत्रण के लिए एसपी मनोज कुमार सिंह ने थानावार सूची बनवाई है। साथ ही इन सभी को पुलिस की ओर से नोटिस जारी कर कोरोना टेस्ट कराए जाने के लिए कहा गया है। बताया जा रहा है कि पुलिस ने जिले के 27 थानों में 430 फर्जी डाॅक्टराें को चिह्नित किया है।

नए संक्रमितों में 41 फीसदी मरीज ग्रामीण क्षेत्र सेपिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस का संक्रमण अब ग्रामीण क्षेत्र में भी तेजी से फैलता हुआ नजर आ रहा है। कारण यह है कि अब शहर के साथ ग्रामीण इलाकों से भी नए संक्रमित तेजी से सामने आ रहे हैं, जिस कारण अब प्रशासन शहर के साथ साथ गांव में भी संक्रमण रोकने के लिए प्रयास तेज कर रहा है। पिछले 10 दिनों में जिले में कुल 455 नए कोरोना संक्रमित मिले, जिसमें 41 फीसदी मरीज ग्रामीण क्षेत्र से हैं।

अब सभी फर्जी डॉक्टरों पर की जाएगी कार्रवाई

सीएमएचओ के निर्देश पर समय समय पर फर्जी डाक्टरों पर कार्रवाई की जाती है। यदि पुलिस द्वारा पकड़े गए झोलाछाप डाक्टरों में तीन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है तो गंभीर मामला है। कल से हमारी टीम ऐसे सभी डाॅक्टर पर कार्रवाई करेगी। - डॉ बीआर आर्य, जिलास्तरीय निरीक्षण दल के प्रभारी

भास्कर सवाल; पुलिस छांट सकती है 430 फर्जी डाॅक्टर, स्वास्थ्य विभाग क्यों चुप है ?

महामारी के दौर में झोलाछाप डॉक्टर मरीजों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं लेकिन कार्रवाई स्वास्थ्य विभाग नहीं कर रहा। सीएमएचओ डॉ अजीत मिश्रा ने झोलाछापों पर कार्रवाई के लिए एक विशेष टीम भी बनाई है। लेकिन यह टीम कार्रवाई करने नहीं जाती है। वहीं पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह ने 27 थाना प्रभारियों को निर्देश देकर जिलेभर में 430 झोलाछाप डाक्टर चिंहित भी कर लिए। शुक्रवार को ऊमरी क्षेत्र से 11 ऐसे डाक्टर्स को पुलिस पकड़ भी लाई। लेकिन स्वास्थ्य विभाग ने अब तक इन पर कोई कार्रवाई नहीं की। हालांकि इस संबंध में सीएसपी मोतीलाल कुशवाह का कहना है कि जो झोलाछाप डाक्टर कोरोना पॉजिटिव आए हैं, उनके संबंध में स्वास्थ्य विभाग को अवगत करा दिया गया है।

खबरें और भी हैं...