पति द्वारा तीन तलाक का नोटिस देने का मामला:पीड़ित पत्नी ने पति और गवाहों पर केस दर्ज कराने एसपी से लगाई गुहार

भिंडएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तीन तलाक देने वाले पति और गवाहों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए एक पत्नी ने पुलिस अधीक्षक शैलेंद्र सिंह चौहान को आवेदन दिया है। एसपी ने भी उक्त आवेदन महिला सेल की डीएसपी पूनम थापा की ओर भेजकर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। संभवतः संभाग का यह पहला मामला होगा।

जब तीन तलाक कानून बनने के बाद किसी मुस्लिम महिला ने इस एक्ट के तहत पति पर कार्रवाई की मांग की हो। सदर बाजार निवासी एडवोकेट मुकेश जैन ने बताया कि माधौगंज हाट निवासी नेहा बानो का 15 अगस्त 2020 को नयापुरा जामा मस्जिद से मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार धर्मेंद्र अली के साथ निकाह हुआ था। निकाह के बाद धर्मेंद्र अली व उसके परिवार के लोग नेहा से एक लाख रुपए और बाइक मायके से लाने की मांग करने लगे।

24 जून को पति ने दिया पहला नोटिस: 21 जून को नेहा ने अपने पति और ससुरालीजन के विरुद्ध दहेज के तहत केस दर्ज कराया था। इस पर धर्मेंद्र अली ने अभिभाषक के माध्यम से लीगल नोटिस भेजकर बताया 24 अक्टूबर को मुस्लिम सुन्नी रीति के अनुसार वह पत्नी को पहला तलाक दे चुका है।

30 नवंबर को दूसरे तलाक का मिला नोटिस: 30 नवंबर को दूसरा नोटिस भेजकर बताया कि धर्मेंद्र ने अपने गवाहों के समक्ष दूसरा तलाक भी दे दिया है। इस पर नेहा बानो ने अपने वकील मुकेश जैन के माध्यम से एसपी को बताया कि मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार सरंक्षण) अधिनियम 2019 की धारा 3 में इस प्रकार के तलाक की कोई भी उदघोषणा शून्य एवं अवैध होगी। साथ ही धारा 4 में धारा 3 के तहत ऐसी तलाश की उद्घोषणा करने वाले के विरुद्ध दांडिक अपराध पंजीबद्ध किए जाने का अपराध है।

तीन तलाक के मामले में डीएसपी से करा रहे जांच
एक महिला ने तीन तलाक के संबंध में आवेदन दिया है। उसके आवेदन को महिला सेल की डीएसपी को जांच के लिए दिया है। साथ ही डीपीओ से भी चर्चा करने के लिए भी कहा है। यदि महिला का आवेदन तीन तलाक की परिधि में आ रहा है तो कार्रवाई की जाएगी। - शैलेंद्र सिंह चौहान, एसपी, भिंड

खबरें और भी हैं...