पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • Water Is Being Stolen From The Factory Line For 15 Years, Because There Is No Well borewell In The Village

मालनपुर में जलसंकट:15 साल से फैक्टरी की लाइन से चोरी से भर रहे पानी, क्योंकि गांव में कुएं-बोरवेल नहीं

भिंड6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गोहद क्षेत्र के सिंगवारी, तिरौली, गिंरोगी, कुमार का पुरा और मालनपुर के गांवों में जल संकट
  • ग्रामीणों ने पेयजल की मांग को लेकर प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन

भीषण गर्मी के दौरान मालनपुर सहित आसपास के गांवों में जल संकट गहराया हुआ है। इस समय ग्रामीण पानी के लिए रोज संघर्ष कर रहे हैं। खास बात तो यह है कि मालनपुर कस्बे सहित ग्रामीण इलाकों में छाए जलसंकट के बारे में नगर परिषद और प्रशासनिक अधिकारियों को जानकारी होने के बाद भी उनके द्वारा ग्रामीणों को पानी उपलब्ध कराने की कोई वैकल्पिक व्यवस्था तक नहीं की जा रही है। रविवार को पेयजल संकट के लिए परेशान सिंगवारी, तिरौली, गिंरोगी, कुमार का पुरा और मालनपुर के ग्रामीणों ने प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए , गांव में शुद्घ पीने का पानी उपलब्ध कराने की मांग की।

रविवार सुबह विरोध प्रदर्शन के दौरान ग्रामीण और समाजसेवी बृजेंद्र जाटव और प्रेम नारायण ने बताया कि वर्ष 1989 में मालनपुर इलाके को औद्योगिक क्षेत्र बनाने की शुरुआत हुई थी, उस दौरान मालनपुर सहित आसपास के गांव की जमीन शासन ने मुआवजा देते हुए अधिग्रहण कर ली थी, उस दौरान किसानों के खेतों में जो कुए और ट्यूबवेल थे,वह भी फैक्ट्री संचालकों के पास चले गए। उन्होंने अपने उद्योग लगाने के लिए कुए और ट्यूबवेलों को नष्ट कर दिया। जिसके बाद से सिंगवारी, तिरौली, गिंरोगी, कुमार का पुरा और मालनपुर के लोग आज तक पानी के लिए परेशान हो रहे हैं।

उद्योग संचालकों के पास गए कुएं, हैंडपंप भी लंबे समय से खराब
ग्रामीण अनिल, जगदीश, पूरन,पिंकी, मुन्नी सहित अन्य ने बताया कि फैक्ट्री लगाने के दौरान हम लोगों के खेतों में जो कुएं और ट्यूबवेल थे, वह उद्योग संचालकों के पास चले गए थे, उसके बाद हम सभी ग्रामीण पानी के लिए हैंडपंप पर निर्भर होकर रह गए थे। लेकिन पिछले15 साल में सिंगवारी, तिरौली, गिंरोगी, कुमार का पुरा और मालनपुर कस्बे में लगे अधिकांश हैंडपंप खराब हो गए, जिसके कारण पानी का संकट और अधिक गहरा गया है। पानी भरने के लिए लंबी-लंबी कतारें लग रही हैं।
चोरी-छुपे पाइप लाइन से भरते हैं बिना फिल्टर वाला पानी
विरोध प्रदर्शन के दौरान शिवनारायण जाटव, रूबी देवी, जलदेवी, संजू आदि ने बताया कि मालनपुर में उद्योगों के लिए पानी कोतवाल डैम से सप्लाई हो रहा है। जिसके लिए मालनपुर सहित ग्रामीण इलाकों से बड़ी पानी लाइन निकली हुई है। ऐसे में हम ग्रामीण पिछले15 साल से रोजाना चोरी-छुपे पाइप लाइन से बिना फिल्टर युक्त पानी पीने और दैनिक उपयोग के लिए भरकर ला रहे हैं। वहीं डैम का पानी फिल्टर युक्त नहीं होने से कई दफा ग्रामीण पानी को पीने से बीमार भी हो चुके हैं।
चुनाव के समय मिलता है आश्वासन फिर लौटकर नहीं आते जनप्रतिनिधि
ग्रामीणों ने बताया कि चुनाव प्रचार के समय जिन दल के जो भी प्रत्याशी गांवों में वोट मांगने के लिए आए,सभी ने जीतने के बाद पेयजल संकट को दूर करने का आश्वासन दिया। लेकिन चुनाव जीतने के बाद किसी भी जनप्रतिनिधि से हमारी समस्या का निराकरण नहीं किया। इस भीषण गर्मी में पानी की परेशानी को लेकर मजबूर हम लोगों को प्रशासन का विरोध करना पड़ा है। वर्तमान में सिंगवारी, तिरौली, गिंरोगी, कुमार का पुरा और मालनपुर के20 हजार से अधिक लोग पानी के लिए परेशान हैं।

गांवा के हैंडपंपों को जल्द सही कराया जाएगा

^मालनपुर सहित आसपास के गांवों में पेयजल संकट लंबे समय से छाया हुआ है। वहीं इस परेशानी को दूर करने के लिए जल्द खराब हैंडपंपों को सही कराया जाएगा। इस संबंध में सिंचाई विभाग को निर्देश दिए जाएंगे। जल्द ही ग्रामीणों को समस्या निजात मिल जाएगी। शुभम शर्मा, एसडीएम, गोहद

खबरें और भी हैं...