• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Aron
  • 49 Ex present Sarpanches Embezzled 9 Crores, Now If You Want To Contest Elections Then The Amount Will Have To Be Returned

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव.:49 पूर्व- वर्तमान सरपंचों ने किया 9 करोड़ का गबन , अब चुनाव लड़ना है तो लौटानी होगी राशि

गुनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तहसील कार्यालय से पंचायत निर्वाचन के लिए पंच व सरपंच के नामनिर्देशन फार्म लेते प्रत्याशी। - Dainik Bhaskar
तहसील कार्यालय से पंचायत निर्वाचन के लिए पंच व सरपंच के नामनिर्देशन फार्म लेते प्रत्याशी।
  • नामांकन शुरू, पहले दिन फार्म खरीदे पर दाखिल किसी ने नहीं किया

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर पहले और दूसरे चरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। नामांकन दाखिले के लिए जोनल भी तय कर दिए गए हैं। इस बार वह व्यक्ति की चुनाव लड़ सकेगा, जिस पर किसी तरह का कोई बकाया नहीं है। इसके लिए नो-ड्यूज सर्टिफिकेट मांगा गया है। इसे लेकर लोग विभागों के चक्कर काट रहे हैं। वहीं गबन में फंसे 49 पूर्व और वर्तमान सरपंचों पर भी तलवार लटकी हुई है। वह जब तक बकाया 9 करोड़ रुपए की राशि जमा नहीं कर देते हैं, नामांकन दाखिल नहीं कर पाएंगे। इसी तरह पंच, सरपंच, जनपद सदस्य, जिला पंचायत सदस्यों के लिए नए दावेदारों पर भी कोई बकाया नहीं होना चाहिए। यह शर्त उन लोगों के लिए मुसीबत बनी हुई है, जो बिजली, नल का बिल नहीं जमा करते हैं और न ही अन्य स्कीमों के तहत लिया कर्ज चुकाते हैं।

425 में से 239 पंचायतों में नामांकन दाखिले की प्रक्रिया शुरू
त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर पहले चरण की प्रक्रिया सोमवार से शुरू हो गई है। जिले की 425 में से 239 ग्राम पंचायतों के लिए नामांकन दाखिल किए जा रहे हैं। जिसमें गुना जनपद की 83 ग्राम पंचायत, राघौगढ़ की 99 और आरोन की 57 ग्राम पंचायत में पहले चरण में मतदान होगा। इसके बाद दूसरे चरण में बमोरी की 80 ग्राम पंचायत और चांचौड़ा की 106 ग्राम पंचायतों के लिए मतदान होगा। पहले चरण के तहत नामांकन दाखिल किए जा रहे हैं।

नया आदेश जारी होते ही लंबित बिल जमा होने लगे
नया फरमान जारी हुआ है, जिसमें अब वह ही व्यक्ति पंचायत चुनाव लड़ सकेगा, जिस पर किसी तरह का कोई बकाया नहीं है। इसलिए अब लोगों को नो-ड़्यूज लेने के लिए विभागों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। अब वर्षों से लंबित बिजली और नल तक के बिल जमा होने लगे हैं। बिजली कंपनी के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले कई दिनों ने पंचायत और गांवों के बिल राशि जमा कराने में लोगों की सक्रियता देखी गई है।

10 साल बाद भी गबन करने वाले सरपंचों पर कार्रवाई नहीं हो पाई
2008 से 2018-19 के बीच शिक्षा विभाग में मंजूर हुए 143 कामों के लिए 4.9 करोड़ रुपए निकाल लिए गए लेकिन मौके पर कोई निर्माण नहीं हुआ। स्कूलों में शौचालय, अतिरिक्त कक्ष तक नहीं बनाए और राशि पंचायतों के खाते से निकाल ली गई। 10 साल बाद भी गबन में फंसे सरपंच-सचिवों से राशि वसूली नहीं हो पाई है। अब उन पर धारा 92 के तहत कार्रवाई प्रचालित है। जिसमें बकाया राशि उनकी चल और अचल संपत्ति को कुर्क कर वसूली जाएगी। इसी तरह पंचायतों में निर्माण कार्य किए बिना ही 5 करोड़ रुपए निकाले जा चुके हैं । जिले में 49 सरपंचों से 9 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि वसूली जानी है।

यह रहेगी व्यवस्था
पंचायत चुनाव को लेकर भारी पुलिस बल लगाया जाएगा। इसके लिए अतिरिक्त बल भी मांगा गया है। वहीं पहले और दूसरे चरण के लिए नामांकन दाखिल 20 दिसंबर तक होंगे। तीसरे चरण के लिए 30 दिसंबर से नामांकन दाखिले की प्रक्रिया शुरु होगी। पहले और दूसरे चरण का मतदान 6 जनवरी और 28 जनवरी को होगा। तीसरे के लिए 16 फरवरी को मतदान होगा। वहीं हर केंद्रों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होंगे। जोनल भी बनाए गए हैं, वहीं जिला निर्वाचन अधिकारी ने इन जोनल केंद्रों के लिए रिटर्निंग ऑफिसर और सहायक रिटर्निंग ऑफिसर नियुक्त कर दिए हैं। ताकि लोगों को इधर उधर न भटकना पड़े। पंचायतों में भी आचार संहिता का उल्लंघन न हो, इसके लिए पूरी नजर रखी जा रही है।
अपनी पंचायतों के मतदात की सूची के लिए लग रहीं कतार
नामांकन दाखिले से पहले उम्मीदवारों नो फार्म लिए। वहीं अपनी-अपनी पंचायत में कितने मतदाता है। इसकी सूची लेने के लिए भी लोगों की कतारें लगी रहीं। उम्मीदवार इन सूची के आधार पर ही आगे की जमावट करेगा।

खबरें और भी हैं...