पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फिर वापसी:3 साल पहले लूप लाइन में रहे डॉ. सरल बने गुना सीएमएचओ

अशोकनगर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अशोकनगर में ट्रामा सेंटर का उद्घाटन सिंधिया के हाथों से कराने के बाद आए थे भाजपा के निशाने पर

भाजपा नेताओं की नाराजगी से 3 साल तक लूप लाइन में रहे डॉ. आरपी सरल को गुना का सीएमएचओ बनाया गया है। उन्होंने वर्ष 2017 में अशोकनगर में ट्रामा सेंटर का उद्घाटन सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के हाथों से करवा दिया था। इसके बाद ही वह भाजपा सरकार के निशाने पर आ गए थे। उ

न्हें अशोकनगर सीएमएचओ पद से हटाकर ग्वालियर में प्रभारी उपसंचालक बना दिया था। अब जाकर उन्हें वापस सिंधिया के गढ़ में स्वास्थ्य सेवाओं के संचालन की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वह अशोकनगर में सिर्फ एक साल ही सेवाएं दे पाए थे, इसी दौरान कांग्रेस और भाजपा में खींचतान शुरु हो गई थी। उन्हें अपने पद से हाथ धोना पड़ा था। वहीं कांग्रेस सरकार बनते ही डीएचओ डॉ. पी बुनकर को सीएमएचओ का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया था। उनका कार्यकाल विवाद रहा, कोविड 19 की नियुक्तियों से लेकर कर्मचारियों को भी इधर से उधर करने के उनके आदेश हमेशा सवालों के घेरे में रहे। इन्हीं वजह से उन्हें हटाकर मूल पद पर भेजा गया है।

सिंधिया के करीबी होने का आरोप झेला था 

वर्ष 2016 में डॉ. आरपी सरल को अशोकनगर का सीएमएचओ बनाया गया था। एक साल बाद ही ट्रामा सेंटर का उद्घाटन कांग्रेस सांसद सिंधिया के हाथों से उन्होंने करवा दिया। अशोकनगर के राजनीति में चल रही खींचतान को वह समझ न सके। तत्कालीन अशोकनगर सिविल सर्जन जब पता चला कि कांग्रेस सांसद उद्घाटन करेंगे तो वह छुट्टी लेकर चले गए। इस वजह से भाजपा ने डॉ. सरल पर ही निशाना साधा और उन्हें हटाकर लूप लाइन में भेज दिया था। लेकिन अब राज्य सभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आ चुके हैं। इस वजह से उन्हें अब इनाम मिला है।
ऑफिस में खींचतान पैदा कर दी थी, आदेश विवादित रहे  

डॉ. पी बुनकर को सीएमएचओ पद से हटाकर मूल पद डीएचओ बना दिया है। उनका एक साल का कार्यकाल विवादित रहा। उनके द्वारा 1.50 करोड़ की दवा भंडार में कार्यरत अस्थाई कर्मचारी को हटाकर स्थाई कर्मचारी को पदस्थी के आदेश जारी किए। लेकिन यह आदेश दूसरे ही दिन पलट दिया। वहीं कलेक्टर के एक आदेश के तहत जिस ड्राइवर को जिला पंचायत के अधीनस्थ कार्य करने के लिए कार्यमुक्त करना था, उसकी जगह दूसरे ड्राइवर को भेजकर कलेक्टर के आदेश को ही पलट दिया था। वहीं कोविड 19 की भर्ती के दौरान में भी ऑफिस के बाबुओं में खींचतान हो गई थी। अपने हिसाब से ड्यूटी लगा दी थीं, इससे इनके खिलाफ कर्मचारियों ने ही मोर्चा खोल दिया था।

गुना में ही हुई थी पहली पोस्टिंग
डॉ. सरल की पहली पोस्टिंग गुना के ही राघौगढ़ में मेडिकल ऑफिसर के रूप में हुई थी। उन्होंने इस अवधि में बेहतर कार्य किया। अब वह जिले की स्वास्थ्य सेवाओं की पूरी कमान संभालेंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें