कार्रवाई / पहली बार 445 शस्त्र लाइसेंस निरस्त, 34 आवेदन रद्द

X

  • कलेक्टर ने सेवानिवृत्त होने के एक दिन पहले शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने का लिया फैसला

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 04:00 AM IST

अशोकनगर. सेवानिवृत्ति से ठीक एक दिन पहले कलेक्टर डा. मंजू शर्मा ने कड़ा निर्णय लेते हुए एक साथ 445 शस्त्र लाइसेंस को निरस्त कर दिया। वहीं 34 आवेदकों द्वारा शस्त्र लाइसेंस बनवाने के लिए प्रस्तुत किए गए आवेदनों को भी निरस्त किया गया है। जिले में यह पहला मामला है जब इतनी अधिक संख्या में एक साथ शस्त्रों के लाइसेंस निरस्त किए हैं। इन लाइसेंसों को निरस्त करने की वजह भारत सरकार की एनडीएएल योजनांतर्गत यूआईएन पोर्टल पर शस्‍त्र लाइसेंस दर्ज न कराने तथा समय पर शस्‍त्र लाइसेंस नवीनीकरण न कराना बताया जा रहा है।
एक तरफ जहां जिले में शस्त्र लाइसेंस बनावने के लिए लोग राजनेताओं से लेकर मंत्रियों से तक फोन करवा रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ कलेक्टर डा. मंजू शर्मा ने अपनी सेवानिवृत्ति से ठीक एक दिन पहले कड़ा निर्णय लेते हुए एक साथ 445 शस्त्र लाइसेंस को निरस्त कर दिया है। तत्काल प्रभाव से जिन लाइसेंसों को निरस्त किया गया है उसमें 235 शस्त्र लाइसेंस आत्मरक्षा और 210 लाइसेंस खेती रक्षा से संबंधित हैं। जिन लोगों के लाइसेंस निरस्त किए गए हैं उन्हें शस्त्र संबंधित थाने में जमा कराने के निर्देश जारी किए गए हैं। इन लाइसेंस को निरस्त एनडीएएल योजनांतर्गत यूआईएन पोर्टल पर शस्‍त्र लाइसेंस दर्ज न कराने तथा समय पर शस्‍त्र लाइसेंस नवीनीकरण न कराए जाने पर किया गया है। इसके अलावा जिन लोगों ने नए आवेदन शस्त्र लाइसेंस बनाने के लिए दिए थे उनमें से 34 आवेदनों को उक्‍त शस्‍त्र लाइसेंस की उपयोगिता सिद्ध न होने के कारण निरस्त किया गया है।

अशोकनगर में शस्त्र लाइसेंस यानी स्टेट्स सिंबोल
जिले में शस्त्र लाइसेंस जरूरत के अधिक स्टेट्स सिंबोल बनता जा रहा है। खासकर जिले के कलेक्टर और एसपी के पास आला नेताओं के सबसे अधिक फोन सिर्फ शस्त्र लाइसेंस के लिए ही आते हैं। जिले में कुल शस्त्र लाइसेंस की संख्या 3800 के करीब हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना