पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हाल-ए-ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्र:ईसागढ़, शाढ़ौरा के सिलेंडर अशोकनगर मंगवाए पिपरई में एक नर्स, चंदेरी में भर्ती नहीं हो रहे मरीज जरूरत

अशोकनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्रों में बनाए आइसोलेशन वार्ड में सुविधाओं की

जिला मुख्यालय पर बढ़ते मरीजों के लोड को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग में ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्रों में कोरोना वार्ड तो बना दिए, लेकिन कोविड वार्ड जैसी सुविधाएं अब तक नहीं जुटाई। ईसागढ़ और शाढ़ौरा से मंगवाए ऑक्सीजन सिलेंडर अब तक अशोकनगर ही पड़े हैं। पिपरई में मरीजों की देखभाल के लिए सिर्फ एक ही नाम है और चंदेरी में मरीज भर्ती होने को तैयार नहीं है।

मुंगावली में व्यवस्थाएं ठीक, लेकिन स्टाफ की कमी: मुंगावली| ग्रामीण अस्पतालों के हिसाब से फिलहाल स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में व्यवस्थाएं ठीक है। कोरोना पॉजिटिव मरीजों के लिए यहां 10 पलंग का अलग से आइसोलेशन वार्ड बना दिया गया है। जिसमें गंभीर मरीजों के लिए 6 बेड विथ ऑक्सीजन वाले उपलब्ध है।

जबकि 4 बेड बगैर ऑक्सीजन वाले सामान्य बेड है। वार्ड में फिलहाल 6 मरीज भर्ती है। सभी मरीजों को ऑक्सीजन पर रखा गया है। हालांकि इतनी व्यवस्था के बाद भी स्टाफ की कमी के कारण यहां संक्रमण का खतरा बना हुआ है। मरीजों की देखरेख करने वाले कर्मचारी ही अन्य बीमारी से पीड़ित सामान्य को भी देखते हैं।

करीब 15-20 दिन पहले अस्पताल में रखे दो सिलेंडर और दो कंसंट्रेटर मशीन जिला अस्पताल अशोकनगर बुलवा लिए गए। उस समय तक यहां संक्रमित मरीजों को भर्ती करने की व्यवस्था नहीं थी। अब स्थानीय स्तर पर वार्ड बन जाने के बाद यहां भी ऑक्सीजन की जरूरत पड़ने लगी है।

ज्ञात रहे सरकारी अस्पताल में 10 बेड का आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया है। जहां फिलहाल 4 मरीज भर्ती है। पिछले 5 दिनों में यहां 3 लोगों की मौतें हो चुकी है। मौत होने वालों का ऑक्सीजन लेवल कम था। सरकारी अस्पताल के अलावा क्षेत्र के आनंदपुर स्थित सुखपुर अस्पताल में 50 बेड का आइसोलेशन वार्ड है। यहां अभी 16 मरीज भर्ती हैं।

खबरें और भी हैं...