बिना खाद सिंचाई कर रहे किसान:सेहराई के किसानों को खाद के लिए जाना पड़ रहा मुंगावली, वहां भी नहीं मिल रही

सेहराईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खाद के लिए परेशान किसान। - Dainik Bhaskar
खाद के लिए परेशान किसान।
  • बिना खाद सिंचाई कर रहे किसान: सहकारी दुकान पर लाइन में लगने के बाद भी नहीं मिल रही

क्षेत्र के किसान खाद के लिए परेशान हो रहे हैं। कस्बे की सहकारी दुकान पर खाद नहीं मिलने के कारण क्षेत्र के किसान खाद लेने के लिए मुंगावली पहुंच रहे हैं। मुंगावली में घंटों लाइन में लगने के बाद भी किसानों को दो बोरी खाद भी नहीं मिल रही है। इससे कई किसान बिना खाद के लिए खेतों में पानी दे रहे हैं। क्योंकि क्षेत्र में दिनों-दिन जल स्तर गिरता जा रहा है। ट्यूबवेल से भी कम पानी आ रहा है।किसान राजू सेन ने बताया कि खाद लेने के लिए मुंगावली गया था। शाम 4 बजे तक नंबर नहीं आया तो वापस आ गया। अब बिना खाद के ही अपने खेत में पानी दे रहा हूं।

लगातार क्षेत्र का जलस्तर कम हो रहा है। यदि सिंचाई नहीं की तो ट्यूबवेल में पानी कम होने से सिंचाई नहीं कर पाएंगे। किसान बृजेश सिंह चौहान ने बताया कि मुझे जानकारी मिली है कि सेहराई के नाम से आरओ काटा जाता है और मुंगावली में ही कुछ लोगों को खाद दिया जा रहा है, जबकि छोटे-छोटे किसान दो-दो बोरी खाद के लिए परेशान हो रहे हैं। इस संबंध में जब समिति प्रबंधक नरेश हिंडोलिया से बात की तो उन्होंने बताया कि सेहराई में खाद उपलब्ध नहीं हो पाएगी। मुंगावली आओ और लाइन में लगकर खाद लो।

भीड़ बढ़ रही, लाइन में लगने के बाद झगड़े भी हाे रहे

मुंगावली में लंबी-लंबी लाइन लग रही है और भीड़ हो जाती है साथ ही झगड़े भी होने लगते हैं। इसके बावजूद शासन प्रशासन क्षेत्र की सरकारी दुकान पर खाद उपलब्ध नहीं करा रहा है। सेहराई क्षेत्र से लगभग 20 गांव जुड़े हैं। क्षेत्र के किसान हरेंद्र कुर्मी, विमल विश्वकर्मा, राजेंद्र ओझा, पठारी के लक्ष्मण लोधी, जनकपुर के शिवराज लोधी आदि सैकड़ों किसानों ने सेहराई की सहकारी दुकान पर खाद उपलब्ध कराने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...