झूठी रिपोर्ट तैयार करने का आरोप:किसानों ने कलेक्ट्रेट के गेट पर दिया धरना, एसडीएम को हटाने के लिए सौंपा ज्ञापन

अशोकनगर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्ट्रेट पर धरना देते किसान। - Dainik Bhaskar
कलेक्ट्रेट पर धरना देते किसान।

अशोकनगर के करख्या गांव के किसान महेंद्र सिंह ने फसल नष्ट होने एवं कर्ज होने के कारण आत्महत्या कर ली थी। किसान की आत्महत्या का मामला अब तूल पकड़ने लगा है। सोमवार को 11 बजे कलेक्ट्रेट में किसान कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने एसडीएम द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट को झूठा बताते हुए एसडीएम को हटाने की मांग एवं दिवंगत के परिवार को सहायता राशि दिलाने की मांग की है। वहीं कलेक्ट्रेट गेट के बाहर आधा सैकड़ा के करीब किसान दिवंगत की तस्वीर रखकर धरना दे रहे हैं।

खरीफ सीजन की सोयाबीन उड़द की फसल नष्ट होने से एवं किसान पर आईसीआईसीआई बैंक का 7 लाख 50 हजार रुपए का कर्जा एवं विद्युत कंपनी द्वारा मृतक के पिता के नाम 2 लाख का कर्जा सामने रखा हुआ था। किसान की फसल नष्ट हुई तो किसान ने अपने खेत पर एक पेड़ से रस्सी बांधकर आत्महत्या कर ली थी। वह मामला अब दिन-प्रतिदिन बढ़ने लगा है। बीते दिन एसडीएम द्वारा मृतक की रिपोर्ट तैयार कर बताया गया कि उसने पारिवारिक कलह के चलते आत्महत्या की थी। विधायक एवं प्रशासनिक अधिकारी मृतक के परिजनों से मिले और 40 हजार रुपए सहायता राशि दी, लेकिन अब किसान की आत्महत्या का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा। कलेक्ट्रेट के बाहर किसान कांग्रेस कमेटी के लोग और आधा सैकड़ा किसानों ने धरना दिया है। उनका कहना है कि दिवंगत किसान के एक बेटे को सरकारी नौकरी दी जाए एवं 50 लाख आर्थिक सहायता प्रदान की जाए।

किसान कांग्रेस ने एसडीएम को हटाने की मांग की

बीते दिन एसडीएम द्वारा जो किसान के बारे में जानकारी दी गई उसे किसान कांग्रेस ने झूठा बताते हुए कहा कि जब किसान के पास 18 एकड़ जमीन और ट्रैक्टर दो मंजिल पक्का मकान होता तो उसका बेटा किसी प्राइवेट मॉल में 8 हजार रुपए महीने की नौकरी क्यों करता। जो मृतक का पक्का मकान दिखाया गया है, उसमें तीन भाई शामिल हैं। इसलिए एसडीएम द्वारा सही रिपोर्ट नहीं दी गई, एसडीएम को हटाने अपर कलेक्टर को ज्ञापन दिया।

खबरें और भी हैं...